Fri. Sep 20th, 2019

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक खतरे में

 पाकिस्तान जहां एक और भारत को कश्मीर मुद्दे पर कठघरे में खड़े करने की कोशिश कर रहा है वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय के सिख और हिंदुओं की बेटियां सुरक्षित नहीं है। पाकिस्तान का जब बंटवारा हुआ था तो उस समय 20 फ़ीसदी से ज्यादा हिंदू पाकिस्तान में थे पर अब उनकी संख्या घटकर 2 फ़ीसदी के करीब रह गई है इनमें से ज्यादातर को जबरन मुसलमान बना दिया गया है और जो नहीं बने उनको मार दिया गया। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हिंदुओं की सबसे ज्यादा संख्या है और उनके कुछ मंदिर और गुरुद्वारे वहां पर है। पाकिस्तान जहां एक और सिखों को भारत के खिलाफ भड़काने का प्रयास करता है वही उसका असली चेहरा सिखों के सामने आ गया जब ननकाना साहब में एक ग्रंथि के बेटी को भगाकर उसका धर्म बदलकर निकाह करवा दिया गया।ग्रंथि के परिवार वालों को लगातार धमकी मिल रही है कि अपनी पुलिस में की गई रिपोर्ट वापस ले ले नहीं तो उनको पाकिस्तान में रहने नहीं दिया जाएगा। भारत में कश्मीरियों को उनका हक दिलाने के लिए लड़ाई करने की बात करने वाला पाकिस्तान इस मुद्दे को भी हिंदू और मुसलमान के चश्मे से देखता है। पाकिस्तान जहां एक और अपने नागरिकों को सुरक्षा नहीं दे पा रहा है वही वह भारत के आंतरिक मसले में बार-बार हस्तक्षेप कर रहा है। पाकिस्तान में सिख लड़की और हिंदू लड़की को जबरन मुसलमान बनाए जाने के विरोध में पाकिस्तान की एंबेसी के सामने बजरंग दल और सिख समुदाय के लोगों ने जमकर प्रदर्शन किया और इमरान खान का पोस्टर जला दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *