पीएम मोदी और शिंजो आबे ने रखी भारतीय बुलेट ट्रेन की नींव

अहमदाबाद, 14 सितम्बर 2017 (बचपन एक्सप्रेस): प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने देश में रेलवे के इतिहास के नये युग का शुभारंभ करते हुए मुंबई अहमदाबाद हाईस्पीड रेल परियोजना की आधारशिला रखी।
इस दौरान मोदी और आबे के अलावा रेल मंत्री पीयूष गोयल, रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा, गुजरात के राज्यपाल ओ.पी. कोहली, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस भी उपस्थित थे।

मोदी और आबे ने वडोदरा हाई स्पीड ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट की भी नींव रखी।

इस परियोजना के 2022 तक पूर होने की उम्मीद है।

इस परियोजना में लगने वाले 1.08 करोड़ रुपये में से जापान 50 वर्षों तक 0.1 प्रतिशत के न्यूनतम ब्याज पर भारत को 88,000 करोड़ रुपये का ऋण देगा, जिसका पुनर्भुगतान 15 वर्षों के बाद शुरू होगा।

ऋण की पहली किश्त के रूप में 6,000 करोड़ रुपये तत्काल जारी किए जाएंगे, जबकि शेष हिस्सा भूमि अधिग्रहण पूरा होने के बाद जारी किया जाएगा।

इस परियोजना के लिए 825 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जाएगा।

इस परियोजना के तहत बारह स्टेशन प्रस्तावित किए गए हैं, जिनमें मुंबई, ठाणे, विरार, बोईसर, वापी, बिलिमोरा, सूरत, भरूच, वडोदरा, आणंद, अहमदाबाद और साबरमती शामिल हैं।

अगर ट्रेन चार स्टेशनों – अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत और मुंबई में रुकती है तो अहमदाबाद और मुंबई के बीच की दूरी दो घंटे सात मिनट में पूरी होगी, जबकि ट्रेन अगर 12 स्टेशनों पर रुकती है तो इसमें दो घंटे 50 मिनट का समय लगेगा।

रेल मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, बुलेट ट्रेन की संचालन गति 320 किमी प्रति घंटे और अधिकतम गति 350 किमी प्रति घंटे होगी।

इसके बाद, मोदी और आबे की गुजरात की राजधानी गांधीनगर में 12वें वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे।

यह सम्मेलन मोदी और आबे के बीच चौथा वार्षिक शिखर सम्मेलन होगा, जहां दोनों नेता दोनों देशों के बीच विशेष रणनीतिक और वैश्विक भागीदारी के ढांचे के तहत बहुमुखी सहयोग में प्रगति की समीक्षा करेंगे।