ताजमहल वास्तुकला का अद्भुत नमूना : योगी आदित्यनाथ

आगरा, 27 अक्टूबर 2017 (बचपन एक्सप्रेस):  ताजमहल देखने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ताजमहल कब बना, क्यों बना और कैसे बना, हम उसकी तह में न जाएं, बल्कि हमें यह ध्यान रखना होगा कि ताज भारतीय मजदूरों के खून-पसीने से बनी वास्तुकला का एक अद्भुत नमूना है।

Image result for Yogi Adityanath विजिट  Taj Mahal ताजमहल के बारे में पार्टी नेताओं के विवादित बयानों के बीच यहां पहुंचे मुख्यमंत्री ने न सिर्फ ताजमहल परिसर में झाड़ू लगाई, बल्कि ताजमहल के अंदर घूमे और देशी-विदेशी पयर्टकों व बच्चों संग फोटो भी खिंचवाई।

ताजमहल के भ्रमण के दौरान योगी ने यमुना की सफाई के निर्देश दिए। फिर 141 करोड़ की लागत से बन रहे मुगल म्यूजियम का निरीक्षण किया। साथ ही कलाकृति ऑडिटोरियम में ‘मोहब्बत : द ताज’ शो देखा।

इसके बाद मुख्यमंत्री ने जीआईसी मैदान में आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ किया। यहां सीएम ने प्रधानमंत्री आवास योजना, फसल ऋण मोचन योजना व अन्य योजनाओं के लाभाथियों को प्रमाण पत्र दिए। साथ ही 235 करोड़ रुपये की लागत की योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया।

समारोह में योगी ने कहा कि आगरा देश का एक ऐसा शहर है, जहां वल्र्ड हेरिटेज की पांच प्रसिद्ध इमारतें हैं। उन्होंने कहा कि ताजमहल कब बना, क्यों बना और कैसे बना हम उसकी तह में न जाएं, हमें बल्कि यह ध्यान रखना होगा कि ताज भारतीय मजदूरों के खून और पसीने से बनी वास्तुकला का एक अद्भुत नमूना है।

Image result for Yogi Adityanath विजिट  Taj Mahal

उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, “मेरे आगरा आने पर बहुत लोग आपत्ति कर रहे थे। वे ऐसे लोग हैं, जो जातिवाद व वंशवाद की राजनीति करते हैं। फिर भी हम यहां घूम रहे हैं। हमारे यहां आने पर उन लोगों को आपत्ति है, जिन्होंने पूर्व की सरकारों में सामाजिक ताने-बाने को छिन्न-भिन्न कर रखा था।”

योगी ने कहा, “हम पर्यटन की अपार संभावनाओं को लेकर आगरा आए हैं, इससे पहले अयोध्या गए। हम प्रदेश को पर्यटन का हब बनाना चाह रहे हैं। हम पर्यटन की अपार संभावनाओं को लेकर कार्य कर रहे हैं। आगरा में पांच-पांच हेरिटेज स्थल हैं। यहां पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। पर्यटकों को बेहतर सुविधा और सुरक्षा की बेहतर व्यवस्था से रोजाना आने वाले पर्यटकों की संख्या पांच गुनाबढ़ाई जा सकती है।”

उन्होंने शिलान्यास और लोकार्पण की गई योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा, “हम जिस काम का शिलान्यास करेंगे उसका उद्घाटन भी करेंगे। यदि सुप्रीम कोर्ट इजाजत देगा तो हम ताज के डाउन स्ट्रीम में 350 करोड़ रुपये से रबड़ डैम की स्थापना करेंगे।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि आगरा में सिविल टर्मिनल के निर्माण के लिए 65 करोड़ रुपये स्वीकृत कर दिए हैं। उन्होंने आगरा में बनने वाले सिविल टर्मिनल का नाम डॉ. दीनदयालय उपाध्याय के नाम पर करने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेज दिया है।

उन्होंने कहा, “हमारी योजनाएं प्रदेश के 22 करोड़ जनता को ध्यान में रखकर बनाई गई हैं। किसी जाति या धर्म के आधार पर हमारी योजनाएं बांट कर नहीं बनाई जा रही हैं। हम चाहते हैं कि कोई आगरा आए तो वह मथुरा, वृंदावन में भी जाए। इसके लिए हम काम कर रहे हैं।”