Top

श्री नायडू ने वियतनाम में संयुक्त राष्ट्र ’वेसाक दिवस पर बौद्ध धर्म के गुणों पर चर्चा की

श्री नायडू ने वियतनाम में संयुक्त राष्ट्र ’वेसाक दिवस पर बौद्ध धर्म के गुणों पर चर्चा की

उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने शांति और टिकाऊ विकास पर आधारित एक संघर्ष मुक्त विश्व व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए एक प्रबुद्ध वैश्विक नेतृत्व का आह्वान किया है और जोर देकर कहा कि बौद्ध धर्म ऐसे रूपांतरण को बढ़ावा देता है। उन्होंने बल देकर कहा कि बौद्ध धर्म के मूल सिद्धांतों का पालन लोगों के मस्तिष्क को मुक्त कर सकता है और बहुत वांछित सकारात्मक नेतृत्व प्रदान कर सकता है जो एक न्यायसंगत और उत्तरदायी विश्व व्यवस्था के साथ-साथ के अलावा समस्याग्रस्त मानवता का उद्धार कर सकता है।

श्री नायडू ने वियतनाम के उपराष्ट्रपति के निमंत्रण पर आज वियतनाम के हा नामा प्रांत के ताम चुग पगोडा में वेसक के 16 वें संयुक्त राष्ट्र दिवस पर अपने मुख्य संबोधन में बौद्ध धर्म के गुणों और वर्तमान समय में इसकी प्रासंगिकता पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने " वैश्विक नेतृत्व के प्रति बौद्ध दृष्टिकोण और स्थायी समाजों के लिए साझा जिम्मेदारियां" विषयवस्तु पर चर्चा की। इसके प्रतिभागियों में वियतनाम के प्रधानमंत्री श्री गुयेन जुआन फुच, राष्ट्रीय वियतनाम बौद्ध संघ के अध्यक्ष और वैसाक समारोह 2019 के संयुक्त राष्ट्र दिवस के अध्यक्ष डॉ. थिक थिएन नहोन और कई देशों के 1600 से अधिक प्रमुख बौद्ध प्रतिभागी शामिल में थे।

“वेसाक ’भगवान बुद्ध के जन्म, ज्ञान और परिनिर्वाण का प्रतीक है, जिनके उपदेशों ने पिछले 2,500 वर्षों में दुनिया भर के लोगों को प्रभावित किया है।

Next Story
Share it