बिना कर्तव्य के बात करना बेमानी है ------

बिना कर्तव्य के बात करना बेमानी है ------

प्रियंका पांडेय

'द मेकिंग बर्ड आली' संस्था के द्वारा बीबीएयू विश्वविद्यालय लखनऊ में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया । इस कार्यक्रम के अंतर्गत महिलाओं के अधिकारों को कार्यक्रम के माध्यम से दिखाई गया। भारतीय संविधान के उद्देश्य और कर्तव्यों से लोगों को अवगत कराया गया। किसानों के हक और इंसाफ को नुक्कड़ नाटक के द्वारा प्रदर्शित किया गया । इस कार्यक्रम के लेखक भारतेंदु कश्यप जी और डायरेक्टर शुभम जी हैं ।यह कार्यक्रम फैजाबाद में 26.9.2019 और इलाहाबाद में 3 .10.2019 को पुनः आयोजित किया जाएगा ।इस संस्था ने बीबीएयू यूनिवर्सिटी में नौवीं बार यह कार्यक्रम आयोजित किया है। यह संस्था लगभग 21 सालों से काम कर रही है । उत्तर प्रदेश के 16 जिलों में इस संस्था ने लोगों को उनके संविधान और कर्तव्यों से अवगत कराने का प्रयास किया है । इस संस्था का उद्देश्य यह है कि लोग अपने अधिकारों को जाने और कर्तव्यों को भी समझें । इस नुक्कड़ नाटक के कलाकार आदर्श,सचिन शक्ति, शुभम, गौरव, अमित, अनुज और शुभी ,प्रतिष्ठा ,रजनी जी इन सभी ने मिलकर इस नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया, और यह कार्यक्रम अलग-अलग जगहों पर भी निरंतर कर रहे हैं ।इन्होंने कविता और गीतों के माध्यम से भी अनेक बातें कहीं। सरकार ने गरीबी रेखा की न्यूनतम सीमा ₹32 रखी है, जिस पर सरकार को विचार करने की जरूरत है ।इस कार्यक्रम में बीबीएयू के जनसंचार एवं पत्रकारिता विभाग के विभागाध्यक्ष श्री गोविंद जी पांडेय एवं श्री अरविंद कुमार पांडेय जी और बीबीएयू के समस्त छात्र-छात्राएं उपस्थित थे ।कार्यक्रम के दौरान विद्यार्थियों ने संविधान और कर्तव्यों को लेकर सवाल जवाब भी किया । ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन होना बेहद आवश्यक है। इस संस्था 'द मेकिंग बर्ड आली' ने बहुत ही अच्छी पहल की है ।वास्तव में यह पहल बेहद सराहनीय है।

Next Story
Share it