Top

उद्धव की ताजपोशी शानदार पर सत्र शुरू करने पर विवाद

उद्धव की ताजपोशी शानदार पर सत्र शुरू करने पर विवाद

राजनेता है कि राजनीति से बाज नहीं आते और कोई भी कदम उठाते समय इस बात का ध्यान नहीं रखा जा रहा है कि नई सरकार को वक्त मिलना चाहिए उद्धव ठाकरे प्रशासनिक पदों पर कभी नहीं रहे हैं और अगर उनसे कोई छोटी मोटी गलती होती है तो उसको नजरअंदाज करना चाहिए।पर भारतीय राजनीति में अब सहिष्णुता के लिए जगह नहीं है|

विपक्षी दल के नेता की इज्जत करना गुजरे जमाने की बात हो गई है नहीं तो एक वक्त ऐसा था जब अटल बिहारी बाजपाई नेहरू के भाषण की प्रशंसा करते थे और नेहरू युवा नेता के वाक्य कौशल की प्रशंसा करते थकते नहीं थे|


भारत सरकार ने 288 सदस्यों वाली विधानसभा में 169 मत लेकर विश्वास मत हासिल कर लिया पर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में भाजपा और उसके कुछ सहयोगी सदस्यों ने संविधान के उल्लंघन का आरोप लगाया और अपने लोगों के साथ सदन का बहिष्कार कर दिया।

नवीस ने कहा कि पिछले सत्र के अंत में राष्ट्रगान हुआ था इसका मतलब था कि सत्र समाप्त हो चुका है और नए सत्र की शुरुआत राष्ट्रगीत वंदे मातरम के साथ होना चाहिए था लेकिन ऐसा हुआ नहीं जबकि सरकार का पक्ष है कि सत्र नया नहीं है|

इसलिए वंदे मातरम की कोई जरूरत नहीं है।भाजपा के बहिष्कार के बाद कांग्रेस सदस्य अशोक चौहान ने ठाकरे सरकार के पक्ष में विश्वासमत का प्रस्ताव पेश किया राकपा और कांग्रेस ने इसका अनुमोदन किया इस दौरान माकपा और मन से के अलावा ओवैसी की पार्टी तटस्थ रही।

Next Story
Share it