भैसों को बेचने के मामले में निगोहा पुलिस बना रही सुलह का दबाव

भैसों को बेचने के मामले में निगोहा पुलिस बना रही सुलह का दबाव

निगोहां पुलिस द्वारा बरामद 24 भैंस बेचने के मामले को लेकर एक समाजसेवी ने पुलिस महानिरीक्षक से उच्चस्तरीय जांच कर दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्यवाही की मांग की है। वही इस मामले में पुलिस व्यापारी से सुलह करने का लगातार दबाव भी बना रही है।

गौरतलब हो कि बीती 15 नवम्बर को रायबरेली डिघिया बजार से 11 लाख रुपए में 24 भैंस खरीदकर ट्रक से ला रहे एक व्यापरी को निगोहां पुलिस ने पकड़ा था और चार लोगों के विरुद्ध पशु क्रूरता अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर ट्रक को सीज कर दिया गया था व इस मामले मे पकड़े गए नसीराबाद रायबरेली के सईद, अरबाज, खाली साठ रायबरेली के रिजवान, व नसीबुद्दीन को थाने से ही मुचलके पर छोड़ दिया गया था । वहीं व्यपारी हारून जब कोर्ट के माध्यम से अपनी भैंस रिलीज कराने पहुंचा तो वहां पुलिस द्वारा उसकी 24 भैंसों को एक लाख 19 हजार में बिक्री किए जाने का बेंचनामा कागज मिला जिसके बाद हारून ने अपनी भैंस पाने के लिऐ कोर्ट से गुहार लगाई इस पर कोर्ट ने निगोहां पुलिस को तलब कर कड़ी फटाकर लगाई थी।

उक्त मामले को लेकर मंगलवार को एक समाजसेवी ने पुलिस महानिरीक्षक से उच्चस्तरीय जांच कराने और दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्यवाही की मांग की है।

व्यापारी पर सुलह का दबाव........

निगोहां पुलिस के द्वारा रामपुर सुदौली के व्यापारी नसीम के हाथों बरामद 24 भैसों को विक्रय करने के बाद मामला कोर्ट में पहुंचने पर कोर्ट ने निगोहां पुलिस को फटकार लगाते हुए जवाब मांगा जिसके बाद निगोहां पुलिस व्यापारी पर सुलह का दबाव बना रही है । व्यापारी हारून ने बताया कि पुलिस उन पर लगातार किसी न किसी के माध्यम से सुलह का दबाव बना रही है। उसे निगोहां पुलिस से डर है की उस पर कहीं फर्जी मुकदमे न दर्ज कर दे।

Next Story
Share it