गाजियाबाद मुठभेड़ की पुलिसिया कहानी संदेहास्पद, जांच जरुरी : माले

गाजियाबाद मुठभेड़ की पुलिसिया कहानी संदेहास्पद, जांच जरुरी : माले

भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने गाजियाबाद में लोनी मुठभेड़ की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। राज्य सचिव सुधाकर यादव ने शुक्रवार को कहा कि पुलिस के अनुसार 13 राउंड की फायरिंग में सात गोलियां कथित सातों आरोपियों के पैरों में एक ही जगह लगी हैं, जो पूरे मामले को संदेहास्पद बनाता है, लिहाजा इसकी जांच जरुरी है। उन्होंने कहा कि एक गोदाम में पशु काटने की बजरंग दल वालों की शिकायत पर गुरुवार सुबह पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई और उसे मुठभेड़ दिखाने की कहानी में कई झोल हैं। कुछ इसी तरह की पुलिसिया कहानी कासगंज की हिरासत में 22 वर्षीय मजदूर युवक द्वारा ढाई फीट ऊंचे नल के पाइप से लटक कर खुदकुशी करने वाली भी है। उन्होंने कहा कि योगी राज में पुलिस को ठांय-ठांय करने की खुली छूट है। आये दिन हिरासत में हत्या और फर्जी मुठभेड़ योगी की पुलिस की पहचान बनती जा रही है।

Next Story
Share it