बलात्कार का विरोध करने पर जान से मारने की धमकी

बलात्कार का विरोध करने पर जान से मारने की धमकी

स्थानीय थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत दौलतपुर के उप गांव निधान पुरवा में गांव का एक दबंग व्यक्ति महिला के घर में बुरी नियत से घुस गया और महिला से बलात्कार करने की कोशिश करने लगा तभी उसके चिल्लाने पर परिजन आ गये। वह दबंग व्यक्ति जान से मारने की धमकी देते हुए भाग गया। रुपईडीहा थाने में प्रार्थना पत्र देने के बाद भी अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। जिससे वह दबंग व्यक्ति घर के सामने टहल कर जान से मारने की धमकी दे रहा है।

पीड़ित महिला श्रीमती नीलम पत्नी पप्पू निवासी ग्राम पंचायत दौलतपुर के मजरा निधान पुरवा ने मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश लखनऊ, राज्य महिला आयोग उत्तर प्रदेश शासन, डीआईजी देवी पाटन मंडल गोंडा, पुलिस अधीक्षक बहराइच को दिए गए प्रार्थना पत्र में कहां है कि मेरा पति मजदूरी करने के लिए बाहर कश्मीर गया है। मैं अपने सास ससुर के साथ घर में रहती हूं। मेरे गांव विधान पुरवा का ही देवाराम पुत्र दुईजी जो दबंग व्यक्ति है। 4 अक्टूबर की रात 12:00 बजे घर में घुस आया और गलत नीयत से मेरे मुंह में कपड़ा लगा दिया और बलात्कार का प्रयास करने लगा मेरे विरोध करने पर गला दबाकर जान से मारने का प्रयास किया। जिससे मेरे गले, नाक, व सीने में खरोच आया है। मेरे चिल्लाने पर पास में ही सो रहे मेरे सास, ससुर जाग गये। तब देवाराम मुझे छोड़कर भाग गया। दूसरे दिन रुपईडीहा थाने में प्रार्थना पत्र दिया तो पुलिस ने बलात्कार का प्रयास करने वाले देवाराम को पकड़कर थाने लायी और दो दिन तक थाने में बिठाए रहे और मुझसे सुला के लिए पुलिस वालों ने काफी दबाव बनाया और मेरी रिपोर्ट नहीं दर्जी की गई। हल्के के सिपाही विजय शंकर व प्रजापति ने देवाराम से रुपया लेकर छोड़ दिया। थाने से आने के बाद देवाराम गांव में लोगों से कहता घूम रहा है की मेरा अब कुछ नहीं हो सकता। क्योंकि हम ने पुलिस को ₹50 हजार रुपया दे दिया है। पुलिस वाले सुला समझौता के लिए लगातार हम पर दबाव बनाए हुए है। हमने सुला समझौता के लिए मना कर दिया। बलात्कार का प्रयास करने वाला व्यक्ति लगातार हमको धमकी दे रहा है कि अगर सुला समझौता नहीं किया तो जान से मार देंगे।

इस संबंध में जब थाना अध्यक्ष रुपईडीहा अभय सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि बलात्कार प्रयास कोई मामला नहीं है इन दोनों का गांव में विवाद है जिस पर हमने 151 के तहत कार्रवाई भी की है। पैसे के संबंध में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह सब झूठा आरोप है।

Next Story
Share it