किसान आंदोलन में आए संत बाबा राम सिंह ने की आत्महत्या। खुद को मारी गोली।

किसान आंदोलन में आए संत बाबा राम सिंह ने की आत्महत्या।    खुद को मारी गोली।


केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए तीन कृषि कानून पर आज लगातार 20 दिनों से किसानों के द्वारा देश की राजधानी दिल्ली में प्रदर्शन किया जा रहा है। इसी बीच आंदोलन अब और गहरा और विकराल रूप धारण करता जा रहा है। किसान आंदोलन के दौरान बुधवार को संत बाबा राम सिंह ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। जिसके बाद मौके पर ही उनकी मौत हो गई। या घटना करनाल बॉर्डर के पास में घटित हुई।

कहा जा रहा है कि संत बाबा राम सिंह किसानों के साथ हो रहे बर्ताव को लेकर काफी परेशान थे।

आपको बता दें कि संत बाबा राम सिंह के पास से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। पिछले काफी दिन से किसानों द्वारा किए जा रहे आंदोलन की वजह से परेशान थे। उन्होंने किसानों के लिए उचित व्यवस्था भी करवाई थी तथा आंदोलन के दौरान कंबल भी बांटे थे।

पीटीसी न्यूज़ में अपने रिपोर्ट का हवाला देते हुए बताया कि संत बाबा राम सिंह ने अपने सुसाइड नोट में लिखा की दे किसानों की हालत नहीं देख सकते। उन्होंने नोट ने आगे लिखा कि केंद्र सरकार किसान के विरोध को लेकर कोई ध्यान नहीं दे रही है। इसीलिए वे किसानों , महिलाओं और बच्चों को लेकर चिंतित हैं।

सुसाइड नोट में संत बाबा राम सिंह ने लिखा कि "अपने हक के लिए किसानों को सड़कों पर देख कर बहुत दिल दुख रहा है। सरकार न्याय नहीं दे रही है। जुल्म है, जुल्म करना पाप है।

गौरतलब है कि सरकार से कई बैठकों के बाद भी किसानों की समस्या का हल नहीं निकल पा रहा है। सरकार के आश्वासन देने के बाद भी किसान अपनी मांगों को लेकर अभी तक सड़कों पर अपनी रातें बिता रहा है। सरकार ने किसानों की मुश्किलों को आसान करने के लिए एमएसपी को लिखित तौर में कानून में शामिल करने का भी वादा किया है। जिस को बर्खास्त करते हुए किसानों ने कहा है कि वह इस कानून में किसी तरह का संशोधन नहीं बल्कि इस कानून को रद्द करना चाहते हैं।

किसानों ने केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए तीन कृषि कानून को काला कानून बताया है। किसानों का कहना है कि इससे सिर्फ उच्च और बड़े उद्योग पतियों को फायदा होगा।

हालांकि सरकार ने उन्हें आश्वासन देते हुए कहा है कि उनके न्यूनतम मूल्य में कमी नहीं आएगी बल्कि पहले से अधिक न्यूनतम मूल्य बढ़ेगा।

आज करीब 20 दिन से किसान दिल्ली की सड़कों पर बैठा है। जहां पर संत बाबा राम सिंह ने किसानों के दुख को देखते हुए खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

नेहा शाह

Next Story
Share it