शिक्षण संस्थानों को गुणवत्ता पर ध्यान देना होगाः पूर्व कुलपति प्रो0 बलराज

  • whatsapp
  • Telegram
  • koo
शिक्षण संस्थानों को गुणवत्ता पर ध्यान देना होगाः पूर्व कुलपति प्रो0 बलराज



अयोध्या। डाॅ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के कौटिल्य प्रशासनिक भवन के सभागार में गुरूवार को पूर्वाह्न 11 बजे नैक एवं एनआईआरएफ (राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क) विषय पर एक दिवसीय चिंतन शिविर का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम में मुख्य वक्ता सीआरआईएसपी यूपी के स्टेट हेड एवं पूर्व कुलपति डॉ0 राम मनोहर लोहिया विधि विश्वविद्यालय लखनऊ के प्रो0 बलराज चैहान ने सभागार में समस्त संकायाध्यक्ष, विभागाध्यक्ष एवं सम्बद्ध महाविद्यालयों के प्राचार्यों को नैक एवं एनआईआरएफ में प्रतिभाग करने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने बताया कि उच्च शिक्षण संस्थानों को शैक्षिक गुणवत्ता पर ध्यान देना होगा। तभी अन्य उच्च शैक्षिक संस्थानों की बराबरी कर पायेंगे। इसमें सभी की पहल जरूरी है।

कार्यक्रम में सीआरआईएसपी यूपी के परामर्शदाता राहुल एवं दिव्या ने नैक एवं एनआईआरएफ की विस्तृत रूपरेखा प्रस्तुत की। उन्होंने कहा कि सभी संस्थाएं नैक एक्रीडिटेशन और एनआईआरएफ रैंकिंग में सहयोग करें। इसके उपरांत 8-9 जुलाई 2023 का कानपुर विश्वविद्यालय में आयोजित शिक्षा मंथन कार्यक्रम के नैक एवं एनआईआरएफ से सम्बन्धित वीडियो सभागार में दिखाया गया।

कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के कुलसचिव डाॅ0 अंजनी कुमार मिश्र द्वारा अतिथियों को स्वागत करते हुए चिंतन शिविर की रूपरेखा प्रस्तुुत की गई। कार्यक्रम का संचालन आईक्यूएसी समन्वयक डॉ0 पी0 के0 द्विवेदी ने किया। अतिथियों के प्रति धन्यवाद ज्ञापन अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो0 नीलम पाठक द्वारा किया गया। इस अवसर पर प्रो0 एस एस मिश्र, प्रो0 आशुतोष सिन्हा, प्रो0 नीलम पाठक, प्रो0 गंगा राम मिश्र, डाॅ0 सुरेंद्र मिश्र, डॉ0 आशीष कुमार पांडे एवं संबद्ध महाविद्यालयों के 50 से अधिक प्राचार्य मौजूद रहे।

Next Story
Share it