अभिभावक बच्चों को फास्ट फूड देने से बचेः डाॅ0 दीपशा दूबे

  • whatsapp
  • Telegram
  • koo
अभिभावक बच्चों को फास्ट फूड देने से बचेः डाॅ0 दीपशा दूबे



अयोध्या। डाॅ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के महिला अध्ययन केंद्र तथा महिला शिकायत एवं कल्याण प्रकोष्ठ द्वारा गोद लिए हुए गांव माधवपुर मसौधा के प्राथमिक विद्यालय में बच्चों का स्वास्थ परीक्षण किया गया। बच्चों को हेल्थ एवं हाइजीन के बारे में जागरुक करते हुए विश्वविद्यालय के स्वास्थ केंद्र की होम्योपैथिक चिकित्साधिकारी डाॅ. दीपशा दूबे ने बताया कि हमें हाथों को पूर्ण स्वच्छ करके ही भोजन ग्रहण करना चाहिए। उन्होंने बताया कि हाथों के नाखूनों में गंदगी के साथ अनेक सूक्ष्म जीवाणु रहते हैं जो की संक्रमण व रोग का प्रमुख कारण होते है।

उन्होंने विद्यार्थियों को संतुलित आहार के बारे में बताते हुए कहा कि हमारे भोजन में प्रोटीन, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम एवं खनिज लवण सभी पोषक तत्व संतुलित मात्रा में होना चाहिए। घर के बने हुए भोजन में हमें दाल से प्रोटीन दूध से कैल्शियम, रोटी व चावल से कार्बोहाइड्रेट, हरी साग सब्जियां व फलों से विटामिन एवं खनिज लवण सरलता से प्राप्त हो सकते हैं। कार्यक्रम में उन्होंने विद्यार्थियों को फास्ट फूड से बचना चाहिए। मां के हाथ से बने हुए भोजन को ही प्राथमिकता के साथ ग्रहण करना चाहिए। अभिभावकों को अपने बच्चों में सभी प्रकार के भोजन लेने की आदत डालनी होगी।

कार्यक्रम में बच्चों को पुष्टाहार भी वितरित किया गया। इसी दौरान विद्यालय के सभी बच्चों का लंबाई एवं भार को मापा गया एवं उनकी समस्याएं भी सुनी गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रकोष्ठ की समन्वयक प्रो0 तुहिना वर्मा द्वारा किया गया। उन्होंने बताया कि दीक्षांत सप्ताह के तहत बच्चों का स्वास्थ परीक्षण किया गया। इसके साथ ही उन्हें जागरूक किया गया है। कार्यक्रम का संचालन डॉ0 स्नेहा पटेल ने किया।

धन्यवाद ज्ञापन डॉ निहारिका सिंह द्वारा किया गया। कार्यक्रम को सफल बनाने में ग्राम प्रधान ऋषिकेश वर्मा, प्राथमिक विद्यालय की शिक्षिका श्रीमती गरिमा, सुश्री वर्षा का विशेष सहयोग रहा। इस अवसर पर डॉ0 महिमा चैरसिया, सुश्री गायत्री वर्मा, छात्र आकाश मिश्रा सहित ग्रामवासी उपस्थित रहे।

Next Story
Share it