अयोध्या पूरी दुनिया का अध्यात्म केन्द्र बनेगाःः महापौर गिरीश पति त्रिपाठी

  • whatsapp
  • Telegram
  • koo
अयोध्या पूरी दुनिया का अध्यात्म केन्द्र बनेगाःः महापौर गिरीश पति त्रिपाठी

अयोध्या। डाॅ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के स्वामी विवेकानंद सभागार में व्यवसाय प्रबंध एवं उद्यमिता विभाग एवं डिटोर संस्था के संयुक्त संयोजन में राष्ट्रीय स्तर का टूरिज्म स्टूडेंट कॉन्क्लेव का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के उद्घाटन संत्र का शुभारम्भ मुख्य अतिथि महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय, बीकानेर के कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित, महापौर गिरीश पति त्रिपाठी, आईएटीओ के चेयरमैन प्रतीक हीरा, इंटेक अयोध्या की संयोजक मंजुला झुनझुनवाला एवं विभागाध्यक्ष प्रो0 हिमांशु शेखर सिंह ने माॅ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यापर्ण एवं दीप प्रज्ज्वलन के साथ किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित ने कहा कि अयोध्या बहुत ही प्राचीन नगरी है यहाँ की सभ्यता विश्व प्रसिद्व है। उन्होंने कहा कि छात्रों को अपने संस्कृति के बारे में पढ़ना चाहिए और समझना चाहिए। उन्होंने बताया कि भारत की अर्थव्यवस्था बहुत ही मजबूत है। आने वाले वर्षों में विश्व के सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगी। कुलपति प्रो0 दीक्षित ने कहा कि प्रत्येक पर्यटन स्थल को अपना एक इवेन्ट विकसित करना चाहिए जैसे अयोध्या ने दीपोत्सव को अपना इवेंट बना लिया है जो प्रत्येक वर्ष अपनी प्रसिद्धि बढ़ा रहा है। उन्होंने छात्रों से कहा कि पर्यटन के बारे में पढ़ना चाहिए फिर आईडिया बनाना चाहिए। इससे कुछ नया कर सकते हैं। इनोवेशन ही आपकी पूंजी है। अयोध्या की सांस्कृतिक विरासत को लोगों तक पहुॅचाना होगा।




कार्यक्रम में महापौर गिरीश पति त्रिपाठी ने कहा कि सांस्कृतिक एवं वैचारिक पुंज के रूप में अयोध्या में पर्यटन की अपार संभावनाएं है। विद्यार्थियों को नजदीक से अयोध्या को देखना चाहिए और पूरी दुनिया के सामने लाएं। उन्होंने कहा कि अयोध्या पूरी दुनिया का अध्यात्म केन्द्र बनेगा। इसकी पौराणिक महत्व एवं विशेषताएं, मान्यताएं, विद्यार्थियों के माध्यम से पूरी दुनिया के सामने लाया जायेगा। इंटेक अयोध्या की संयोजक मंजुला झुनझुनवाला ने कहा कि अयोध्या अपनी विरासत के लिये प्रसिद्ध है यहाँ हेरिटेज के कई स्थल हैं जिसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं 1974 में अयोध्या आयी तबकी अयोध्या और आज की अयोध्या में बहुत अंतर है। उन्होंने कहा कि अयोध्या स्पिरिचुअल डेस्टिनेशन के रूप में विकसित हो रहा है, जिसके लिये देश विदेश से अनेकों पर्यटकों के अयोध्या आने की सम्भावना है।

कार्यक्रम में आईएटीओ के चेयरमैन प्रतीक हीरा ने कहा कि अयोध्या एक नया टूरिस्ट डेस्टिनेशन बन रहा है। इसलिए पर्यटन की सम्भावना भी अटूट हैं। उन्होंने कहा कि पर्यटन संस्थान से अनुरोध है कि अपने छात्रों को उद्योग की मांग के अनुरूप तैयार करें। इंडस्ट्री को अच्छे छात्रों की लगातार आवश्यकता है बस अपनी प्रतिभा का विकास करिये कोर्स पूरा होने के पहले रोजगार मिल जाएगा। कार्यक्रम में ब्रिटेन के पर्यटन उद्यमी पीटर जोंस ने कहा कि पर्यटन करते समय हमें जानकारी लेने में हिचकिचाहट नही करनी चाहिए तभी आप पर्यटक स्थल को समझ सकेंगे। अन्य ब्रिटिश पर्यटन उद्यमी एरिक हॉलिडे ने कहा कि भारत बहुत ही सुंदर देश है। यहां की संस्कृति विश्व की सबसे अच्छी संस्कृति है।

कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत करते हुए व्यवसाय प्रबंध एवं उद्यमिता विभागाध्यक्ष प्रो0 हिमांशु शेखर सिंह ने दो दिवसीय कार्यक्रम की रूपरेखा पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यह कॉन्क्लेव पर्यटन के छात्रों के लिये बहुत ही उपयोगी है। इस कॉन्क्लेव में छात्र विभिन्न सत्रों में पर्यटन उधोग की मांग को समझेंगे और अपने आप को तैयार कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि विभाग 1995 में कुल 30 छात्रों से प्रारंभ कर आज हम 1500 छात्रों तक पहुँच चुके हैं, इस प्रकार विभाग प्रतिदिन प्रगति के पथ पर अग्रसर है। एमबीए टूरिज्म के छात्र कई शहरों के रोजगार के द्वारा अवध विश्वविद्यालय एवं विभाग का नाम रोशन कर रहे हैं। इसमें देश भर के 10 पर्यटन संस्थान हिस्सा ले रहे है। जिनमें बीएचयू, लखनऊ विश्वविद्यालय, अमरकंटक विश्वविद्यालय, नागपुर विश्वविद्यालय, गोवा विश्वविद्यालय, मार्टिन लूथर विश्वविद्यालय, शिलांग, एमिटी विश्वविद्यालय, राजस्थान सहित अन्य विश्वविद्यालय के छात्र एवं पर्यटन विशेषज्ञ शामिल है। कार्यक्रम के संयोजक विकास द्वारा कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत की गई।

कार्यक्रम का संचालन फाल्गुनी ने किया। धन्यवाद ज्ञापन प्रो0 शैलेन्द्र कुमार वर्मा द्वारा किया गया। इस अवसर पर प्रो नीलम पाठक, प्रो आई सी गुप्ता, प्रो श्रीकान्त मिश्रा, डॉ अनिल कुमार सिंह, डॉ राणा रोहित सिंह, डॉ प्रवीण राणा, प्रो आर के सिंह, डॉ विजयेन्दु चतुर्वेदी, डॉ दीप शिखा चैधरी, डॉ श्रीष अस्थाना, डॉ निमिष मिश्रा, डॉ अंशुमान पाठक, डॉ आशुतोष पाण्डेय, ई शाम्भवी, डॉ रामजीत सिंह यादव, डॉ दीपा सिंह, डॉ कविता सहित इंडस्ट्री के विशेषज्ञ एवं छात्र छात्राएं मौजूद रहे।

Next Story
Share it