श्रीराम मन्दिर निर्माण से क्षेत्र का आर्थिक विकास होगाः प्रो० दलीप कुमार

  • whatsapp
  • Telegram
  • koo
श्रीराम मन्दिर निर्माण से क्षेत्र का आर्थिक विकास होगाः प्रो० दलीप कुमार



अयोध्या। डाॅ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र एवं ग्रामीण विकास विभाग तथा ललित कला विभाग के संयुक्त तत्वावधान में ‘‘आर्थिक विकास में राम मन्दिर के निहतार्थ समंक आधारित एक विश्लेषण‘‘ विषय पर विशिष्ट व्याख्यान का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में बतौर मुख्य वक्ता वरिष्ठ अर्थशास्त्री प्रो० दलीप कुमार ने छात्र-छात्राओं को बताया कि शोध के आकड़े यह बता रहे है कि श्रीराम मन्दिर के निर्माण से सम्बन्धित क्षेत्र का व्यापक आर्थिक विकास होने जा रहा है।

उन्होंने बताया कि मंन्दिर निर्माण से प्रमुख रूप से लगभग अर्थव्यवस्था के 25 क्षेत्रों पर गुणांक सिद्धांत के तहत विकासात्मक प्रभाव पड़ता है जिसमे प्रमुख रूप से संरचनात्मक विकास, पर्यटन विकास, होटल उद्योग विकास, लघु एवं कुटीर उद्योगो का विकास, पूजन आधारित सामाग्रियों का विकास, बहुआयामी मन्दिर आधारित दैनिक सामाग्रिक उत्पादिता का विकास कुटीर एवं लघु उद्यम का विकास, कृषि आधारित सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योगो का विकास सम्मिलित है।

इससे अवध क्षेत्र के सभी क्षेत्रों में आय एवं रोजगार का स्तर व्यापक रूप से बढ़ेगा। लोगो का जीवन स्तर बढ़ते हुए आर्थिक विकास को गति मिलेगी। व्यक्तिगत अनुमान है कि श्रीराम मन्दिर निर्माण से अवध क्षेत्र के लोगों में 50 प्रतिशत स्वरोजगार के अवसर बढ़ेंगे जिससे सम्बन्धित लोगो की आय में लगभग 40 से 50 प्रतिशत की वृद्धि सम्भावित होगी।

कार्यक्रम में कला एवं मानविकी संकायाध्यक्ष प्रो0 आशुतोष सिन्हा ने बताया कि प्रभु श्रीराम के मन्दिर निर्माण से क्षेत्रीय अर्थव्यवस्था में सांस्कृतिक एवं पौराणिक समृद्धि के साथ बहुउदेशीय विकासवादी प्रवृत्ति को बढ़ावा मिलेगा। प्रो० विनोद कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा होने के फलस्वरूप लोगो में सांस्कृतिक सोच विकसित होगी और प्रति दिन लगभग एक से दो लाख पर्यटको के दर्शन की सम्भावना बढ़ेगी।

इससे अर्थव्यवस्था का क्षेत्र बढेंगा और व्यापक विकास सुनिश्चित होगा। कार्यक्रम का संचालन ललित कला विभाग की डॉ० सरिता द्विवेदी द्वारा किया गया। धन्यवाद ज्ञापन अर्थशास्त्र विभाग की डॉ० अलका श्रीवास्तव ने किया। इस अवसर पर प्रो० मृदुला मिश्रा, चिकित्साधिकारी, डॉ० सत्येन्द्र सिंह, श्रीमती रीमा सिंह, श्रीमती सरिता सिंह, आशीष प्रजापति, दिलीप पाल, विजय कुमार शुक्ला, हीरा लाल यादव, शिव शंकर यादव सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

Next Story
Share it