दीपिका पादुकोने ने स्वीकार किया की उन्हें एन सी बी ने बुलाया है

दीपिका पादुकोने ने स्वीकार किया की उन्हें एन सी बी ने बुलाया है

आज बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस दीपिका पादुकोने ने स्वीकार किया है कि उनको एन सी बी ने बुलाया है और उन्हें २५ को वहा आने के लिए कहा गया है - सुशांत सिंह राजपूत की मौत से शुरू हुआ ये तमाशा अब उनकी मौत की जांच न होकर कौन -कौन ड्रग्स पीता है उसकी जांच हो गयी - इस तरह से तो इस एजेंसी को भारत में सभी साधु संत और पूरा बनारस ही नशेडी लगेगा क्योंकि वहाँ पर घाटो पर इस तरह के लोग मिल जायेंगे जो लगातार गांजा ,भंग और अन्य तरह के पदार्थ का सेवन करते है - अगर किसी ने सेवन किया है तो वो कानूनन सही नही है पर मीडिया का तमाशा जहाँ से शुरू हुआ उससे अब यू टर्न लेकर कहाँ पहुच गया ये शायद उनको भी नहीं पता होगा -

ये कोई जांच का विषय नहीं था की बॉलीवुड में लोग इस तरह के सेवन का आदी है क्योंकि उनकी जिंदगी जिस तरह की है और जो उतार चढाव है उसमे इस तरह के ड्रग्स का सेवन कोई नयी बात नहीं है - जाने कितने स्टार पुत्र है जो इसका सेवन करते रहे और वो अब इसको छोड़ कर सामान्य जीवन बिता रहे है -

अगर दीपिका ने कभी इस तरह के ड्रग्स का सेवन किया है तो उसे रोगी की तरह देखा जाना चाहिय न कि अपराधी की तरह - अगर दीपिका ने ड्रग्स के खरीद -बिक्री का काम किया होता तो वो अपराधी होती पर इस तरह से मीडिया का दीपिका का पीछा करना और उसे अपराधी साबित करना न तो ठीक है और न ही ये हमारे समाज के लिए ठीक है -

आज भारत में नशे की समस्या कितनी बड़ी है उसका आंकलन इससे लगा ले की पूरा पंजाब इसमें आकंठ डूबा है और अगर आप ड्रग माफिया के खिलाफ कुछ बोल दे तो आप की खैर नही - बॉलीवुड में ड्रग के कारोबार पर रोक लगाना चाहिय और एनसीबी को बड़ी मछली का शिकार करना चाहिए न की ग्लैमर और मीडिया के चक्कर में पड़ कर इन लोगो के साथ अपराधी जैसा व्यवहार करना चाहिए -

दुर्भाग्य की देश जानना चाहता है कहने वाले पत्रकार पहले सुशांत की मौत की जांच कर रहे थे और सारी सरकारी एजेसी उनके पीछे -पीछे जांच कर रही थी एकाएक देश जानना चाहता है पत्रकार को ड्रग्स दिख गया अब वो सुशांत की मौत की जगह देश जानना चाहता है कि कौन -कौन ड्रग्स पीता है या पी चुका है इसकी रिपोर्टिंग करने लगे -

अब अपना देश भी अजीब है एक पत्रकार की सनक के पीछे देश की पूरी एजेंसी चल रही है - शर्म आती है की सीबीआई और एनसीबी अब अपने मूल काम से दूर ये जांचने में लगी है की कौन -कौन ड्रग्स लेता है या ले चुका है - अगर किसी ने इस तरह का काम किया है तो वो मरीज है न की अपराधी पर पूरा देश जानना चाहता है की हमारे कलाकारों के साथ इस तरह का व्यवहार क्यों किया जा रहा है -

इस तरह का व्यवहार न सिर्फ इस देश की सबसे प्रतिष्ठित इंडस्ट्री को नुकसान पंहुचा रहा है वो हमारे सॉफ्ट पॉवर को भी तहस -नहस कर विश्व में मजाक का विषय बना रहा है - अब समय आ गया है की सरकार चेते और इन कलाकारों को मरीज मान कर इलाज कराये और ड्रग्स के बड़े मछली को पकडे जो दुबई और पाकिस्तान में बैठ कर तमाशा देख मजा ले रहे है -



Next Story
Share it