राकेश ओमप्रकाश मेहरा और फरहान अख्तर की जोड़ी इस बार भाग मिल्खा भाग जैसा रोमांच पैदा करने मे असफल रही

राकेश ओमप्रकाश मेहरा और फरहान अख्तर की जोड़ी इस बार भाग मिल्खा भाग जैसा रोमांच पैदा करने मे असफल रही

बचपन एक्सप्रेस फिल्म रिवयू- तूफ़ान

अंकित दीक्षित

राकेश ओमप्रकाश मेहरा और फरहान अख्तर की जोड़ी इस बार भाग मिल्खा भाग

जैसा रोमांच पैदा करने मे असफल रही | अमेज़न प्राइम पर ट्रेलर देखकर दर्शको के मन जो तूफ़ान उठा था वो फिल्म मे नदारद रहा | भारत मे स्पोर्ट्स पर बनने वाली फिल्मे अक्सर अपने ट्रीटमेंट से मात खा जाती है फिल्म तूफ़ान भी अपवाद साबित नहीं हुई |

दुनिया मे कई खिलाड़ी हुए जिन्होंने स्पोर्ट्स फील्ड मे शुरुआत तो बहुत ही शानदार तरीके से की लेकिन अपनी सफलता को लम्बे समय तक कायम नहीं रख सके | फिल्म तूफ़ान हमें बताती है की सही मोटिवेशन या प्रेरणा एक आम खिलाडी को विश्व विजेता मे तब्दील कर देती है |

तूफान की कहानी का सबसे बड़ा मोड़ है हीरो का विलन और फिर विलन से हीरो बनना हलाकि यही भवर फिल्म की नैय्या डुबो गया | तूफ़ान में अगर सच मे कुछ तूफानी है तो वो है फरहान अख्तर द्वारा अपनी कद काठी पर की गयी मेहनत और बॉक्सिंग सीख कर एक प्रोफेशनल बॉक्सर बनने का उनका जूनून मगर भाग मिल्खा भाग जैसी सफल स्पोर्ट्स फिल्म करने के बाद वह अपने अभिनय कौशल से न्याय नहीं कर पाये |

फिल्म मे परेश रावल ने अज्जू (फरहान अख्तर) के बॉक्सिंग कोच प्रभु का किरदार बहुत ही प्रभावी ढंग से निभाया है | फिल्म की हीरोइन हैं अनन्या (मृणाल ठाकुर) जो अज्जू की प्रेमिका और कोच प्रभु की बेटी के रोल मे है | टेलीविज़न से अपने बड़े परदे का रुख करने वाली मृणाल ने फिल्म को अपने सधे अभिनय से रफ़्तार दी है |


Next Story
Share it