हैंडपैन बजाकर मुझे भगवान शिव से जुड़ाव महसूस होता है - शगुन पांडे

हैंडपैन बजाकर मुझे भगवान शिव से जुड़ाव महसूस होता है - शगुन पांडे


पॉपुलर फिक्शन शो 'मीत' की शुरुआत से ही आशी सिंह और शगुन पांडे क्रमशः मीत हुड्डा और मीत अहलावत का रोल बखूबी निभा रहे हैं। जहां उन्होंने अपने इस रोल से सभी को बहुत इम्प्रेस किया है, वहीं लगता है कि अब शगुन पांडे को सेट पर एक्टिंग के अलावा एक नई हॉबी मिल गई है। आने वाले एपिसोड्स में दर्शकों को कुछ हाई वोल्टेज ड्रामा के साथ कुछ नए रोमांचक मोड़ भी देखने को मिलेंगे। जहां शगुन अपने दर्शकों का मनोरंजन करने के लिए काफी मेहनत कर रहे हैं, वहीं वो एक नया वाद्य यंत्र बजाने के लिए अपने व्यस्त शेड्यूल से थोड़ा वक्त भी निकाल रहे हैं। शगुन पांडे को हमेशा से गाने का शौक रहा है और हाल ही में एक वेकेशन के दौरान उन्होंने हैंडपैन बजाना सीखा। हैंडपैन एक वाद्ययंत्र है, जिसे कुछ राज्यों में पंतम भी कहा जाता है।

जबसे उन्होंने इस इंस्ट्रूमेंट में हाथ आजमाए हैं, तब से ही उन्हें इससे प्यार हो गया है। वो मानते है इससे उन्हें बड़ा सुकून मिलता है और यह उन्हें भगवान शिव से भी जोड़ता है।

शगुन पांडे बताते हैं, ''म्यूज़िक एवं म्यूज़िकल इंस्ट्रूमेंट के प्रति अपने प्यार के चलते मैंने हाल ही में एक हैंडपैन खरीदा है और पिछले दिनों एक छोटे-से वैकेशन पर मैं इसे अपने साथ ले गया था। मैंने अलग-अलग लोगों को इसे बजाते देखा और जब मुझे इसे बजाने का मौका मिला, तो मैं खुद को रोक ना सका। जैसे-जैसे दिन गुजरे,मैंने धीरे-धीरे इसे बजाना सीखा और जब हम वहां से वापस लौट रहे थे, तब मैंने महसूस किया कि इस पूरे अनुभव ने मुझे बड़ा सुकून दिया और मुझे भगवान शिव से भी जोड़ा। मैं अलग-अलग वेरिएशंस में अलग-अलग मंत्र सीखने की खूब कोशिश कर रहा हूं।

जहां गिटार और ड्रम फैंसी इंस्ट्रूमेंट्स हैं, वहीं मुझे लगता है कि ज्यादा से ज्यादा म्यूज़िक लवर्स को ऐसे ऑफ-बीट इंस्ट्रूमेंट्स में हाथ आजमाना चाहिए और इन्हें भी सामने लाना चाहिए।'' मालूम हो कि मीत शो सोमवार से शनिवार शाम साढ़े सात बजे ज़ी टीवी पर प्रसारित है।

Next Story
Share it