टेलीविज़न की दुनिया में वापस नहीं जाना चाहती हैं आशा नेगी..

टेलीविज़न की दुनिया में वापस नहीं जाना चाहती हैं आशा नेगी..

छोटे पर्दे पर एक लम्बा वक़्त बिताने के बाद मशहूर एक्ट्रेस आशा नेगी ने ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर अपना रुख किया है। जैसा कि हम सब जानते हैं कि उन्हें 2019 में ऑल्ट बालाजी की सीरीज़ बारिश में शरमन जोशी के साथ फीमेल लीड रोल में देखा गया था। जिसके बाद उन्होंने पीछे मुड़ कर नहीं देखा। उन्होंने अभय 2, लव का पंगा और ख़्वाबों के परिंदे में एक के बाद एक प्रमुख किरदार निभाये। वहीं 2020 में आशा नेटफ्लिक्स की फ़िल्म लूडो में अभिषेक बच्चन के किरदार की पत्नी के रोल में दिखीं।

उनके अभिनय से प्रभभित होकर उन्हें एक और सीरीज ऑफर। हुई जो अब डिज़्नी प्लस हॉस्टार वीआईपी पर 9 जुलाई को रिलीज़ हो रही है। ये एक थ्रिलर फ़िल्म 'कॉलर बॉम्ब' हैं। जिसमें वे जिम्मी शेरगिल के साथ लीड रोल में दिखेंगी। बता दे आशा ओटीटी की दुनिया में आकर ख़ुश और उत्साहित हैं। यह पूछे जाने पर कि टीवी और ओटीटी प्लेटफॉर्म्स के लिए कामकाज की शैली में वो क्या फ़र्क पाती हैं, आशा कहती हैं- ''टीवी और ओटीटी प्लेटफॉर्म में बहुत फ़र्क है।

टेलीविज़न में हम लोगों को बहुत जल्दी-जल्दी काम करना पड़ता है। आज का टेलीकास्ट है या कल का टेलीकास्ट है। उस वजह से परफॉर्मेंस पर ध्यान नहीं दे पाते। क्वालिटी वर्क पर ध्यान नहीं दे पाते हैं। ओटीटी पर तसल्ली से काम होता है। आपने एक प्रोजेक्ट किया। वो एक-दो महीनों में ख़त्म हो गया। आप आगे बढ़ जाते हैं। कोई नया कैरेक्टर, कोई नया शो, कोई नई फ़िल्म करते हैं।'' आगे वे कहती हैं- ''अब मुझे नहीं लगता कि मेरे अंदर इतना धैर्य बचा है कि 2-3 साल तक कोई टीवी शो करती रहूं। हां, जो लोग आर्थिक सुरक्षा चाहते हैं, उनके लिए टेलीविज़न बहुत बढ़िया माध्यम है। टेलीविज़न शो जितना लम्बा चल रहा है, उतना अच्छा है। अब मैं रचनात्मक रूप से अधिक संतुष्ट होना चाहती हूं। आशा आगे कहती हैं कि मुझे लगता है कि वेब माध्यम, फ़िल्म और टेलीविज़न के बीच एक ख़ूबसूरत ब्रिज की तरह है, क्योंकि वेब पर कोई टेलीविज़न एक्टर नहीं है और कोई फ़िल्म एक्टर नहीं है। वेब में सब बस एक्टर हैं।''

Next Story
Share it