फ्री बिजली , पानी, अगर है सरकार बनानी

देश में एक नयी राजनीति का बीज बो दिया गया है अगर कल अरविन्द केजरीवाल सरकार को जनमत हासिल हो जायेगा तो उनके अँधा अनुकरण के लिए लोगो की लाइन लग जायेगी | भारत में फ्री शब्द अत्यंत प्रचलित है | अगर कोई माल बेचना हो तो उसके साथ फ्री कुछ दे दीजिये और माल को भूल जाइये |

आज कल बड़े बाजारों में एक पर एक , तीन पर तीन फ्री मिल रहा है और जनता टूट कर खरीद रही है | शायद ये जानने की कोशिश भी नहीं है की तीन पर तीन फ्री ये गणित क्या है | शायद ये पता नहीं की व्यापरी उसके पैसे से ही पैसा बना रहा है |

आप एक खरीदने जाइये तो आपको ७०० रूपये में मिलेगा और एक पर एक लीजिये तो १४०० में मिलेगा | न तो आपको छूट है और नहीं कहीं कोई मॉल सस्ता है बस ये बेचने और खरीदने का एक तरीका है |

इसमें जनता न सिर्फ फस जाती है बल्कि अपने पास की जमा पूंजी भी लगा कर लोगो को दे देती है | इस तरह फायदा सिर्फ और सिर्फ व्यापरी का होता है |

आज अरविन्द केजरीवाल तो कल उद्धव ठाकरे है और ये क्रम बढ़ता चला जायेगा | देश के अमीर प्रदेशो और शहरो के नागरिको को और सुविधा उन लोगो के बदले जिन्हें एक वक्त का खाना भी नसीब नहीं है |

अगर फ्री करना है तो उन बच्चो के लिए स्कूल और रहना फ्री करो जो फुटपाथ पर अपना बचपन गुजार रहे है | फ्री करना है तो उन माओ को दूध की खुराक दे दो जो अपने बच्चो को अपना खून पिला कर पाल रही है | अगर फ्री देना है तो उनको छत दे दो जो जाड़े की रातों में ठन्डे आसमान के नीचे ठिठुरते हुए रहते है |

सरकार अगर फ्री ही देना है तो उन अनाथ बच्चों की परवरिश अपने उपर ले लो जिनके माँ -बाप इस दुनिया में नहीं है | फ्री देना है तो उन शहीदों के परिवार को अपना लो जिनका कोई नहीं है |

70 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Subscribe To our News Paper