Top

नई शिक्षा नीति-2020 की चुनौतियाँ और आगे की राह

नई शिक्षा नीति-2020 की चुनौतियाँ और आगे की राह


डॉ यूसुफ़ अख़्तर

नई शिक्षा नीति -2020 (NEP2020) के माध्यम से शैक्षिक ढांचे को बेहतर बनाने का सरकार का प्रयास अपने आप में एक सराहनीय कार्य है, लेकिन इसके समक्ष कई चुनौतियाँ हैं, जिन्हें निम्नलिखित बिंदुओं के तहत वर्णित किया जा सकता है:

• भारत में लगभग एक तिहाई बच्चे प्राथमिक शिक्षा पूरी करने से पहले स्कूल छोड़ देते हैं। यह उल्लेखनीय है कि अधिकांश बच्चे, जो स्कूल जाने में असमर्थ हैं, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति, धार्मिक अल्पसंख्यकों और दिव्यांग समूहों से संबंधित हैं।

• एक महत्वपूर्ण चुनौती बुनियादी ढांचे की कमी से संबंधित है। यह आमतौर पर देखा गया है कि स्कूलों और विश्वविद्यालयों में बिजली, पानी, शौचालय, चारदीवारी, पुस्तकालय, कंप्यूटर आदि की कमी है, जिसके परिणामस्वरूप शिक्षा प्रणाली प्रभावित होती है। विश्व बैंक की विश्व विकास रिपोर्ट 2018 दी लर्निंग टू रियलाइज़ एजुकेशन प्रॉमिस ' के अनुसार, भारत की शिक्षा प्रणाली बदतर स्थिति में है।

• शिक्षा क्षेत्र में सुधार के लिए सरकार द्वारा किए गए प्रयासों के विफल होने का ख़तरा है। इसका कारण शिक्षा नीति में बदलाव करते समय रोडमैप का पालन नहीं करना और नीतियों को बनाते समय सभी हितधारकों को ध्यान में नहीं रखना है।

• ASER के अनुसार, जो कि एक गैर सरकारी संगठन है, जिसका मुख्यालय नई दिल्ली में है, पूरे भारत में ग्रामीण और शहरी मलिन बस्तियों में बच्चों के साथ काम करता है। सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा क्षेत्र के बुनियादी ढांचे में निवेश किया हो ऐसा हो सकता है, लेकिन यह अपेक्षाकृत सफल नहीं रहा है। नई शिक्षा प्रणाली के सामने एक चुनौती शिक्षकों की कमी को दूर करना भी है। नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (CAG) की 2017 की रिपोर्ट के अनुसार, एकल शिक्षक के भरोसे बड़ी संख्या में स्कूल चल रहे हैं, जो शिक्षा की गुणवत्ता को प्रभावित करता है। हाल ही में यूजीसी के एक सर्वेक्षण के अनुसार, कुल स्वीकृत शिक्षण पदों में से प्रोफेसर के 35%, एसोसिएट प्रोफेसर के 46% पद और 26% सहायक प्रोफेसर के पद भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों में रिक्त हैं।

• एक अन्य चुनौती उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाना है। यह उल्लेखनीय है कि बहुत कम भारतीय शिक्षण संस्थानों को शीर्ष -200 विश्व रैंकिंग में जगह मिलती है।

• शिक्षा नीति के समक्ष एक महत्वपूर्ण चुनौती विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में प्रोफेसरों की जवाबदेही और प्रदर्शन सुनिश्चित करने से संबंधित सूत्र को लागू करना भी है। आज, दुनिया के कई विश्वविद्यालयों में, अपने साथियों और छात्रों के प्रदर्शन के आधार पर शिक्षकों के प्रदर्शन का मूल्यांकन किया जाता है।

• मसौदे में त्रिभाषी नीति भी NEP2020 के सामने एक चुनौती पेश कर रही है, जिसमें गैर-हिंदी भाषा क्षेत्रों में मातृभाषा और अंग्रेजी भाषा के अलावा हिंदी को तीसरी भाषा बनाने की सिफारिश की गई है। तीन भाषा सूत्र नया नहीं है और पिछली शिक्षा नीतियों में, 1968 और 1986 में इसकी पहले से ही सिफारिश की गई थी।

निष्कर्ष रूप में, यह कहा जा सकता है कि NEP2020 सरकार द्वारा शिक्षा प्रणाली में एक बड़े बदलाव का संकेत देता है, लेकिन इसमें कई चुनौतियाँ भी हैं। उल्लेखनीय है कि इन चुनौतियों से निपटने का प्रयास पूर्व में भी किया जा चुका है, लेकिन उपलब्धियाँ सराहनीय नहीं रही हैं। इस संदर्भ में, कुछ सुझावों को यहां लागू करने की आवश्यकता है। इस नीति के तहत, शिक्षा अभियान को सफल बनाने के लिए सरकार, नागरिकों, सामाजिक संस्थाओं, विशेषज्ञों, अभिभावकों, समुदाय के सदस्यों को अपने स्तर पर काम करना चाहिए। शैक्षिक संस्थान, कार्यान्वयन एजेंसियों, छात्रों और औद्योगिक क्षेत्रों के नेताओं के बीच एक सहजीवी संबंध स्थापित किया जाना चाहिए। इसलिए, नवाचारों का एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाया जा सकता है जिसमें रोज़गार के बड़े अवसर पैदा हो सकते हैं। इसके लिए यह आवश्यक है कि उद्योग शिक्षण संस्थानों से जुड़े हो। इसके अलावा, कॉर्पोरेट प्रतिष्ठानों को विशेष महत्व के क्षेत्रों की पहचान करनी चाहिए और देश के डॉक्टरेट और पोस्ट-डॉक्टोरल प्रोग्रामों के अनुसंधान के लिए वित्त प्रदान करना चाहिए। क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों, प्रतिष्ठित उद्योग संगठनों, मीडिया हाउस और पेशेवर निकायों को भारतीय विश्वविद्यालयों और संस्थानों को रेटिंग देने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। एक मजबूत रेटिंग प्रणाली विश्वविद्यालयों के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा को बढ़ाएगी और उनके प्रदर्शन में सुधार करेगी। भारतीय विश्वविद्यालय अभी भी दुनिया के शीर्ष 200 रैंक वाले विश्वविद्यालयों में शामिल नहीं हैं। इस संबंध में, विश्वविद्यालयों और शिक्षाविदों को संबंधित मानकों में आत्मनिरीक्षण और सुधार करना चाहिए। स्कूली शिक्षा में सुधार के अलावा, शिक्षण और प्रशिक्षण विधियों में भी सुधार किया जाना चाहिए।

एक ओर, संस्थान की स्वायत्तता की वकालत की जाती है, जबकि दूसरी ओर, मौजूदा व्यवस्था में, यदि आप विश्वविद्यालय के भीतर एक संगोष्ठी तक आयोजित करना चाहते हैं, तो आपको कुलपति से अनुमति लेनी होगी। एक और उदाहरण में, एक तरफ वैज्ञानिक दृष्टिकोण की वकालत की जाती है और दूसरी तरफ देश की सरकार के मंत्री ऐसे भाषण देते हैं जो अंधविश्वास को बढ़ावा देते हैं। इसी तरह, इस NEP2020 का वक्तव्य बहुत अच्छा है, बशर्ते यह वास्तव में लागू हो। यदि सरकार इसे अपनी भावना और मन में लाये और इसके आधार पर, मूल ढांचे को बदलने के इरादे से पूरी शैक्षिक संरचना पर काम करे तभी कुछ संभव है। सिर्फ अच्छे शब्दों से काम नहीं चलेगा। इसके क्रियान्वयन पर सावधानीपूर्वक ध्यान दिया जाना चाहिए। हमें आने वाले दशकों में यह भी देखना होगा कि सरकारें NEP2020 के अनुसार क़ानूनों को बदलने के बाद आवश्यक अतिरिक्त बजट प्रदान करने और उसे खर्च करने में सक्षम है या नहीं।

लेखक बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर विश्विद्यालय, केंद्रीय विश्विद्यालय, लखनऊ, में बायोटेक्नोलॉजी विभाग में असिसटेंट प्रोफेसर हैं। ये लेखक के निजी विचार हैं । (संपर्क सूत्र: yusuf.akhter@gmail.com)


Next Story
Share it