पूर्वी लद्दाख सेक्टर की ठंड को झेलने में हो रहे असमर्थ चाइनीस सैनिक - भारत के जांबाज सैनिकों पर मौसम का कोई असर नहीं।

पूर्वी लद्दाख सेक्टर की ठंड को झेलने में हो रहे असमर्थ चाइनीस सैनिक - भारत के जांबाज सैनिकों पर मौसम का कोई असर नहीं।


पूरी लद्दाख सेक्टर में जहां एक और भारत के जाबाज सैनिक अपनी ड्यूटी पर तैनात खड़े हैं वहीं दूसरी ओर चीनी सैनिकों को बार-बार बदलना पड़ता है। 24 घंटे में जहां 2 सैनिक लद्दाख की सीमाओं पर तैनात रहते हैं वहीं दूसरी ओर चीन अपने 6 से 7 सैनिकों की अदला-बदली कर रहा है ,पूर्वी लद्दाख का मौसम भी किसी दुश्मन से कम नहीं। चीनी सैनिक भी अब लद्दाख के मौसम और जांबाज भारत के सैनिकों का लोहा मान रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार ए एन आई मीडिया से वार्ता करते हुए अधिकारी ने बताया कि कम तापमान वाले मौसम में ना रहने के कारण चीनी सैनिक अब हार मानने लगा है वहीं दूसरी ओर भारतीय सैनिक जो कि इस मौसम को अपनी मां मान चुका है सीना चौड़ा किये खड़ा है।

सूत्रों ने कहा कि हमारे सैनिक जो कि पूरी लद्दाख सेक्टर में ड्यूटी के लिए तैनात हैं वह सभी सियाचिन ग्लेशियर या लद्दाख सेक्टर अधिक ऊंचाई वाली जगहों पर पहले भी ड्यूटी कर चुके हैं जिससे वह चीनी सेना के मुकाबले पूर्वी लद्दाख सेक्टर में आराम से ड्यूटी दे पा रहे हैं तथा उन्हें बार-बार अदला-बदली करने की आवश्यकता भी नहीं पड रही है।

सूत्रों ने बताया कि रणनीति करने वाले चीन ने अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में भारतीय सैनिक के नजदीक ही अपने हजारों सैनिकों को तैनात किया है, तथा तोप आदि की व्यवस्था भी की गई है। परंतु वहीं दूसरी और भी भारतीय सैनिक अपना शक्ति दिखाने के लिए उचित हथियारों के साथ तैनात खड़े हैं आपको बता दें कि पूर्वी लद्दाख सेक्टर एक ऐसा इलाका है जहां जाने के लिए एक आम इंसान को हजारों बार अपना टेस्ट करवाना पड़ता है। क्योंकि वहां की सर्दी एक आम इंसान झेलने के काबिल नहीं होता।

पूर्वी लद्दाख सेक्टर में तैनात चीनी सैनिकों का बल अब टूटने लगा है जहां एक और भारतीय 24 घंटे में 2 सैनिक बदलते हैं वहां 6 से 7 बार चीन की अदला बदली हो जाती है।

नेहा शाह

Next Story
Share it