कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने लिखी चिट्ठी- किसान कानून को लेकर किसान संगठन मे पैदा किया जा रहा है भ्रम

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने लिखी चिट्ठी- किसान कानून को लेकर किसान संगठन मे पैदा किया जा रहा है भ्रम


राजधानी दिल्ली में आज किसान आंदोलन को करीब 21 दिन पूरे होने जा रहे हैं। किसान दिल्ली के सभी बॉर्डर पर अपनी मांगों को पूरा करने के लिए बैठा हुआ है। आंदोलन के बीच में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों को 8 पन्ने का पत्र लिखा।इस पत्र के जरिए कृषि मंत्री ने कहा कि किसान संगठनों में भ्रम पैदा करने की कोशिश की जा रही है।

नरेंद्र सिंह तोमर ने लिखा कि ऐतिहासिक कृषि सुधारों को पिछले कुछ दिनों से लेकर मैं लगातार आपके संपर्क में हूं। बीते कुछ दिनों में मेरी अनेक राज्यों के कृषि संगठनों से बात हुई। जिनमें से कई किसान संगठन ऐसे भी हैं जिन्होंने इस कृषि कानून का स्वागत किया है। वे प्रस्तावित कृषि कानून से बहुत खुश हैं। लेकिन इन कृषि सुधारों का दूसरा पक्ष यह भी है कि कुछ किसान संगठनों में इस कानून को लेकर एक भ्रम पैदा कर दिया गया।

अपनी चिट्ठी में उन्होंने आगे लिखा कि देश का कृषि मंत्री होने के नाते, यह मेरा कर्तव्य है कि देश का हर किसान भ्रम से दूर रहे। और हर किसान की चिंता दूर करूं। मेरा दायित्व है कि सरकार और किसानों के बीच दिल्ली आसपास के बीच जो झूठ की दीवारें रची जाने की साजिश की जा रही है। उसकी सच्चाई और वस्तु स्थिति आपके सामने रखूं।

आपको बता दें कि इस चिट्ठी के जरिए नरेंद्र सिंह तोमर ने दावा किया कि जरूर किसान संगठनों में भ्रम पैदा करने की कोशिश की जा रही है। कृषि मंत्री ने एमएसपी खत्म हो जाना किसानों की जमीन हथियानाऔर अन्य सभी कथित मुद्दों को बर्खास्त करते हुए कहा कि किसानों के साथ ऐसा व्यवहार कभी नहीं किया जाएगा। उनकी न्यूनतम आय से अधिक आय अब उन्हें प्राप्त होगी।

भारत के केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा किसानों को 8 पन्ने की चिट्ठी लिखी गई। जिसमें उनको इस कृषि कानून की सारी बातें उचित रूप से समझाई गई।

नेहा शाह

Next Story
Share it