Top

तू मोदी की विरोधी तो मै तेरा दोस्त बनूँगा : टिकैत उवाच

तू मोदी की विरोधी तो मै तेरा दोस्त बनूँगा : टिकैत उवाच

पुरानी कहावत है कि दुश्मन का दुश्मन को दोस्त बना लेना चाहिए इससे उसको परास्त करने में आसानी होती है | पिछले छः महीने से धरने पर बैठे राकेश टिकैत को ये बात खरी लगने लगी है इसी उम्मीद में हर उन लोगो से दोस्ती करने जा रहे है जो मोदी के दुश्मन है |

इस कड़ी में सबसे नई उम्मीद ममता बनर्जी के रूप में सामने दिखाई दे रही है | मोदी विरोध में अब वो सबसे सशक्त हस्ताक्षर बन कर उभरी है | पर वो टिकैत की उम्मीदों पर खरी उतरेंगी ये तो समय बताएगा |

राकेश टिकैत अपनी हठधर्मिता के कारण सरकार से कोई ऐसी बात नहीं मनवा पा रहे है जिससे उनका कद भी बना रहे और सरकार भी अपनी लाज बचा सके | अब तीनो कानूनों को ख़त्म करने की मांग तो सरकार मानने से रही |

टिकैत को जो समर्थन मिल रहा था वो भी अब ख़त्म होता जा रहा है | अब ये आंदोलन सिर्फ पश्चिम यूपी और पंजाब , हरियाणा के किसानो का बन कर रह गया है | टिकैत की मुश्किल और भी बढ़ जाती है जब इसमें खालिस्तान समर्थक लोग अपनी एंट्री लेकर अपना मकसद पूरा करने लगते है |

अभी जो खबरे आ रही है वो काफी चिंताजनक है टिकैत के कारण न सिर्फ भारत की वैश्विक छवि ख़राब हो रहे है बल्कि खालिस्तान का जो आंदोलन ख़त्म हो गया था उसको भी कही न कही समर्थन मिल रहा है |

किसान आंदोलन में देश विरोधी गतिविधियों को नजर अंदाज करना उतना ही घातक होगा जितना इंदिरा गाँधी के समय भिंडरावाले को स्वर्ण मंदिर में अपना दबदबा बनाने देना था | सिख समुदाय के अच्छे लोगो को एक किनारे कर पाकिस्तान समर्थक लोगो ने अब फिर से किसान आंदोलन के आड़ में खालिस्तान आंदोलन को आईएस आई की सहायता से धार देने का काम करना शुरू कर दिया है |

टिकैत को होशियार हो जाना चाहिए की कही वो आधी को छोड़ पूरी की धावी में न माया मिली न राम वाली स्थिति हो जाए और साथ ही साथ जीवन भर के लिए देश के गद्दारो की सहायता करने का टैग भी लग जाए |

मोदी विरोध को कोई नहीं रोकेगा पर जब ये विरोध देश के विरोधियों के साथ मिल कर किया जाएगा तो आम जनता टिकैत सहित उनके पुरे टीम को सबक सीखा देगी |

Next Story
Share it