Top

उत्तर प्रदेश पुलिस मुख्यालय की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना कर्फ्यू के दौरान अपहरण रेप और डकैती के मामलों में बढ़ोतरी

उत्तर प्रदेश पुलिस मुख्यालय की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना कर्फ्यू के दौरान अपहरण रेप और डकैती के मामलों में बढ़ोतरी

उत्तर प्रदेश मे महामारी की वजह से लगाए गए कोरोना कर्फ्यू के दौरान अपहरण, रेप, डकैती और लूट के मामले में बढ़ोत्तरी देखने को मिली है। पुलिस द्वारा प्रस्तुत की गई रिपोर्ट के अनुसार बताया गया है कि 1 जनवरी 2020 से 15 मई 2020 और 2021 में इसी अवधि के दौरान अपहरण, रेप, डकैती और लूट के मामलों में इज़ाफ़ा हुआ है। मार्च 2020 में लॉकडाउन था और मई 2021 में यूपी के शहरों में कोरोना कर्फ़्यू जानकारों का मानना है कि पंचायत चुनाव और कोरोना के चलते बढ़ी बेरोजगारी की वजह से अपराध की घटनाओं में इज़ाफ़ा हुआ।

आंकड़ों के मुताबिक बताया गया है कि 2020 की अवधि में फिरौती के लिए अपहरण के 11 मामले सामने आए। जिसके बाद 2021 के कर्फ्यू के दौरान मामले बढ़कर 18 हो गए। आंकड़ों के अनुसार बलात्कार की बात करें तो बताया गया है कि 2021 की अवधि में बलात्कार के कुल 717 मामले दर्ज किए गए थे जो 2021 में बढ़कर 787 हो गए। 2021 की अवधि के दौरान बलात्कार के मामलों में 9.76 फ़ीसदी का इज़ाफ़ा हुआ है।

आपको बता दें कि आंकड़ों में डकैती की बात करें तो 2020 में इस अवधि में कुल 27 मामले थे, जबकि 2021 में 29 हो गए जो कि 7.41 फ़ीसदी बढ़े हैं। साल 2020 की इसी अवधी में लूट के 467 मामले दर्ज हुए थे जो 2021 में बढ़कर 470 हो। इस अवधि के दौरान हत्या के आंकड़ों में 2.84 फ़ीसदी, चोरी में 8.31 फ़ीसदी, बलवा में 12.21 फ़ीसदी, दहेज हत्या में 12.21 फीसदी और कुल अपराधों में 1.96 फ़ीसदी की कमी आई है।

पहली लहर की बंदिशों के लगने के बाद ऐसा माना जा रहा था कि अपराधों में कमी आएगी लेकिन प्रस्तुत किए गए आंकड़ों के अनुसार अनुमान लगाया जा रहा है, कि अपराधी अभी तक बाज नहीं आ रहा है। इस दौरान पुलिस ने बताया है कि ज्यादातर मामले आपसी रंजिश और चुनावी रंजिश से जुड़े हुए पाए गए हैं।


नेहा शाह

Next Story
Share it