तालिबान का नंगा नाच शुरू ,धर्म के नाम पर शुरू हुआ जेहाद , क़त्ल किये २२ अफगानी सैनिक

तालिबान का नंगा नाच शुरू ,धर्म के नाम पर शुरू हुआ जेहाद , क़त्ल किये २२ अफगानी सैनिक

अमेरिका के अफगानिस्तान से वापस जाने और अगल -बगल के देश के लोगो का चुप रहना अफगानिस्तान और विश्व शांति के लिए बड़ा खतरा बन जाएगा | अमेरिका ने अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड लिया पर अगर विश्व शांति खतरे में पड़ती है तो उसमे अमेरिका भी नुकसान उठाएगा |

धर्म के नाम पर जिहाद की घोषणा करने वाले तालिबानी बर्बर आतंकवादियों ने निहथ्थे अफगानी मुश्लिम सैनिको को गोलियों से भून डाला | वो भी इश्लाम को मानने वाले थे अपर इनका जिहाद इसको नही देख पा रहा है - तालिबानियों ने चीन को अपना दोस्त बता रखा है जिसमे वो उइगर मुसलमानों की गर्दन पर चीनी तलवार को भी भूल चुके है |

तालिबान एक गद्दार कौम है जो अपने ही मुश्लिम भाइयो को इस्लाम के नाम पर कत्ल कर रही है और इस्लाम को चीन से साफ़ कर देने वाले लोगो को अपना दोस्त बता रही है | ये जिहाद नही और जिहाद के नाम पर लोगो का क़त्ल करना कही से भी सभी नहीं है |

अगर विश्व शांति चाहता है तो उसे अफगान समस्या का हल निकलना होगा नहीं तो ये चिंगारी हर तरफ फ़ैल जायेगी |

अमेरिका का अफगान को दोराहे पर छोड़ कर भागना उसके हित को आने वाले समय में भयंकर नुक्सान पंहुचा सकता है जिसकी कल्पना शायद बिडेन प्रशासन ने नही की है |

इन सब के बीच पकिस्तान और चीन , दुनिया के दो सबसे बेकार मुल्क एक भीख मांगकर जीता है और दूसरा उसके जैसे देशो को भीख दे कर उनपर अपनी नीतियाँ थोपता है वो इसमें अपना फायदा ढूढने का प्रयास कर रहे है |

Next Story
Share it