कार्तिक पूर्णिमा 2020: 30नवम्बर कार्तिक-पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान का महत्व, इस बार कार्तिक-पूर्णिमा पर सर्वाथसिध्दि।

कार्तिक पूर्णिमा 2020: 30नवम्बर कार्तिक-पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान का महत्व, इस बार कार्तिक-पूर्णिमा पर सर्वाथसिध्दि।


कार्तिक पूर्णिमा 30नवम्बर सोमवार को हैं, कार्तिक महिने का सबसे आखिरी दिन हैं इस दिन पवित्र नदियों में स्नान किया जाता है। पूर्णिमा के दिन स्नान के साथ दान का भी बहुत महत्व होता है कार्तिक पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और माता- लक्ष्मी की पूजा किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा मे या तुलसी के पास दीपक जलाने से माता-लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

कार्तिक पूर्णिमा क्यो मनाई जाती है।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन महादेव ने त्रिपुरासूर नामक राक्षस का संहार किया था। यहीं नहीं यह भी कहा जाता है, कि इस दिन भगवान विष्णु का प्रथम अवतार हुआ था। ऐसा माना जाता है, कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन सोनपुर में गंगा गंडकी के संगम पर गज और ग्राह का युद्ध हुआ था। गज की करुणामई पुकार सुनकर भगवान विष्णु ने ग्राह का संहार कर भक्त की रक्षा की थी। इस वजह से देवताओं ने स्वर्ग में दीपक जलाए थे। तभी से इस दिन देव दिवाली मनाई जाती है। इस भगवान सत्यनारायण की पूजा, कथा और व्रत रखा जाता है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन भगवान शिव की विजय के उपलक्ष्य में, काशी के पवित्र शहर में भक्त गंगा के घाटों पर तेल के दीपक जलाकर और अपने घरों को सजाकर देव दीपावली मनाते हैं।

ज्योति जायसवाल

Next Story
Share it