अच्छे आचरण और अपने सांस्कृतिक विरासत पर गर्व करने पर ही हम विश्व गुरु बनेंगे : प्रो. गोविन्द जी पांडेय , प्रान्त उपाध्यक्ष एबीवीपी, अवध प्रान्त

अच्छे आचरण  और अपने सांस्कृतिक विरासत पर गर्व करने पर ही हम विश्व गुरु बनेंगे : प्रो. गोविन्द जी पांडेय , प्रान्त उपाध्यक्ष एबीवीपी, अवध प्रान्त

.

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नगर अध्यक्ष बने डॉ मनोज कुमार, डॉ राजश्री, डॉ अजय शुक्ल और डॉ शरद सोनकर बने उपाध्यक्ष

अच्छे आचरण और अपने सांस्कृतिक विरासत पर गर्व करने पर ही हम विश्व गुरु बनेंगे : प्रो.गोविन्द जी पांडेय , प्रान्त उपाध्यक्ष एबीवीपी, अवध प्रान्त

अशियाना में संपन्न हुए बैठक में विचार व्यक्त करते हुए प्रो. गोविन्द पांडेय ने उक्त बाते कही | मौका था एबीवीपी के आशियाना में नगर ईकाई की बैठक का जिसमे पदाधिकारियो की घोषणा होनी थी | उन्होंने बताया की कैसे एक सोची समझी साजिश के तहत भारत को वैचारिक गुलामी की जंजीरे पहना दी गयी |

प्रो गोविन्द जी पांडेय बैठक को सम्बोधित करते हुए

प्रांत उपाध्यक्ष एवं बीबीएयू के पत्रकारिता विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रो. (डाॅ.) गोविन्द जी पाण्डेय और लखनऊ महानगर के संगठन मंत्री अनुज श्रीवास्तव की उपस्थिति में आशियाना के पदाधिकारियों के नामों की घोषणा की गयी। जिसमें लोहिया विधि विवि के डाॅ. मनोज कुमार को अध्यक्ष और अनुराग को नगर मंत्री घोषित किया गया।

डाॅ.राजर्षि शुक्ला, डाॅ.शरद सोनकर, डाॅ.अजय शुक्ला व डाॅ. दीपा राज को नगर उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गयी। अन्य पदाधिकारियों मेंु रोचक श्रीवास्तव, सुप्रिया शुक्ला, लोकेन्द्र तिवारी, अभिनन्दन, शुभम यादव को नगर सहमंत्री का प्रभार दिया गया है। नगर विश्वविद्यालय कार्य संयोजन के रूप में रूपेेश बाजपेई को पदभार दिया गया है।

शांतुल्य शुक्ला और रणंजय शुक्ला को नगर एसएफडी का कार्यभार दिया गया है। नगर कला मंच प्रमुख के रूप में राशि मिश्रा और नगर खेल आयाम प्रमुख में रिदम सिंह को जिम्मेदारी दी गयी है। ई-एबीवीपी प्रमुख के रूप में अभिषेक मिश्रा और नगर खेल सह संयोजक के रूप में धीरेन्द्र तिवारी को जिम्मेदारी दी गयी है।


डॉ शरद सोनकर उपाध्यक्ष का पद ग्रहण करते



नगर एएफडी सह प्रमुख के तौर पर वैभव सोनी और मनीष पांडे को जिम्मेदारी दी गयी है। साथ ही राघवेन्द्र चैहार को कार्यकारिणी सदस्य घोषित किया है। बैठक को संबोधित करते हुए संगठन मंत्री अनुज श्रीवास्तव ने कहा कि एबीवीपी पूरे भारत के छात्रों को सबसे बड़ा संगठन है जो छात्रों के हितों में काम कर रहा है। सभी पदाधिकारियों को जो जिम्मेदारी दी गयी है वह पूरी निष्ठा के संगठन को आगे बढ़ाने का कार्य करगेें। साथ ही प्रो. गोविन्द जी पाण्डेय ने कहा कि एबीवीपी संस्कारों वाला संगठन है जिसका कार्य भारत की संस्कृति, सामाजिक मूल्यों की रक्षा और सुरक्षा करना है।

Next Story
Share it