किसान का आक्रोश चरम सीमा पार कर रहा है हरियाणा पंजाब दिल्ली जाम करने के बाद दिल्ली मेन हाईवे जाम करेंगे किसान

किसान का आक्रोश चरम सीमा पार कर रहा है    हरियाणा पंजाब दिल्ली जाम करने के बाद दिल्ली मेन हाईवे जाम करेंगे किसान


कृषि विधेयक सहित तथा विभिन्न कृषि कानून के विरोध के चलते दिल्ली हरियाणा पंजाब यूपी में विरोध प्रदर्शन करने के बाद अब किसानों का बड़ा ऐलान सामने आया है उन्होंने दिल्ली में हाईवे जाम कर आवाजाही बंद करने का निर्णय लिया है।

साथ ही उन्होंने कहा कि यदि उनकी बातों को नहीं माना गया तो वह पूरी दिल्ली में चक्का जाम कर देंगे इस खबर से दिल्ली पुलिस की प्रतिक्रिया में और तेजी से हलचल बढ़ गई है।

बता दे कि कल किसानों को विरोध प्रदर्शन करने के लिए दिल्ली में निरंकारी समागम के निकट इजाजत मिली इससे पहले उन्हें वाटर कैनन और आंसू वाली गैसों के द्वारा विरोध प्रदर्शन करने से रोका जा रहा था। किसानों का कहना है कि उनकी कमेटी जैसा करेगी सारे किसान वही करेंगे रविवार को सभी किसान शंभू बॉर्डर प्रदर्शन के लिए पहुंचे हालांकि उनके इस विरोध प्रदर्शन को रोकने के लिए भारी मात्रा में पुलिस बल भी तैनात किए गए। तथा विरोध को रोकने के लिए किसानों के ऊपर जमकर लाठियां बरसाई गई जब उससे भी मनोबल नहीं टूटा तो उन पर वाटर कैनन और आंसू वाली गैस का भी इस्तेमाल किया गया।

आइए जानते हैं क्यों हो रहा है इतना विरोध प्रदर्शन

केंद्र सरकार की ओर से हाल ही में पारित किए गए । नए कृषि किसान बिल से किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य के खत्म होने का डर है।

इससे पहले अब तक किसान अपनी उपज को निकट स्थित मंडियों में जो कि सरकार द्वारा निर्धारित की गई है एमएमसी में बेच देते थे परंतु इस नए कानून के चलते किसान कृषि उपज मंडी समिति से बाहर कृषि कारोबार को मंजूरी दी गई। जिससे किसानों को उचित मूल्य ना मिलने का डर है हालांकि सरकार ने अपने बयानों में एमएमसी जारी रखने का वादा किया है तथा उनकी उपज के अनुसार अच्छा मूल्य देने का भी। परंतु इस बात को अभी तक पेश किए गए कृषि कानून में नहीं जोड़ा गया है जिसकी वजह से आज हर राज्य में किसान प्रदर्शन पर बैठा है।

नेहा शाह

Next Story
Share it