जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में सोमवार को आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ , पांच जवान हुए शहीद

जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में सोमवार को आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ , पांच जवान हुए शहीद

जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में सोमवार को आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में एक जूनियर कमिशंड ऑफिसर और 4 सैनिक शहीद हो गए। आतंकवाद का एक और दौर शुरू हो गया है जहाँ पर सेना और सिविलियन दोनों को निशाना बनाया जा रहा है |

सेना का छोटा दल गस्त कर रहा था और जो जानकारी मिल रही है उससे लगता है कि आतंकवादियों ने बाकायदे ट्रैप करके सुरक्षाबलों पर हमला बोला है।

एलओसी से सटे सुरनकोट इलाके के जंगल में मुठभेड़ हुआ और इसमें जवान शहीद हुए सुरक्षाबलों ने इलाके को घेर लिया है और मुठभेड़ जारी है।

कश्मीर को बनाना चाहते है इंटरनेशनल मुद्दा !

जब से अफगानिस्तान में तालिबान सत्ता में आया है आतंकवादियों का हौसला बुलंद हो गया है | पाकिस्तान अपने दोहरे गेम लगातार खेल रहा है | एक तरफ वो विश्व को बता रहा है की वो भी आतंकवाद का शिकार है दूसरी तरफ वो भारत में लगातार आतंक को प्रायोजित कर रहा है |

इस साल 24 फरवरी को उसने भले ही भारत के साथ सीजफायर को लेकर समझौता किया है, लेकिन अपने आतंकी मंसूबों के लिए उसने शायद ही इसका पालन किया हो। भारत में घुसपैठ करवाने के लिए कश्मीर सीमा पर पाकिस्तान सेना की ओर से बैकअप के तौर पर फायरिंग की जाती है।

सीमा पर इनकी गतिविधि लगातार बढ़ती जा रही है | यह पैटर्न पिछले कई सालों से चल रहा है। इसके साथ ही पाकिस्तान पिछले करीब 30 सालों से तनाव बढ़ाकर दुनिया का ध्यान कश्मीर की ओर खींचने की कोशिश करता रहा है। इस समय जब वह अफगानिस्तान और चीन से अपनी यारी के कारण दुनिया में अलग-थलग पड़ा है, उसने फिर यह नापाक साजिश रची है

भारत को दे रहे 'दोहरे जख्म'

एक तरफ सेना पर आतंकी हमला तो दूसरी तरफ सिविलियन पर हमला उनकी सोची समझी रणनीति का हिस्सा है | वो आम लोगो को आतंकित कर खासकर हिन्दू और सिक्खो को निशाना बना कर फिर से पुराने आतंक के दिन वापस लाना चाहते है |

2 साल पहले अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष दर्जे को खत्म किए जाने के बाद बौखलाए पाकिस्तान ने अब भारत को 'दोहरे जख्म' देने की रणनीति अपनाई है यानी सुरक्षाबल और सिविलियन दोनों को टारगेट करने की रणनीति।

Next Story
Share it