राज कपूर दुनिया के सबसे अच्छे शिक्षक थे- राहुल रवैल

'राज कपूर: द मास्टर एट वर्क' ये किताब शोमैन राज कपूर के बारे में नहीं है, बल्कि उन 'राज कपूर' के बारे में है जो एक जुनूनी कर्मकार और पेशेवर थे। ये बात अनुभवी फ़िल्मकार और इस किताब के लेखक राहुल रवैल ने कही जो गोवा में 20 - 28 नवंबर के दौरान आयोजित 52वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म महोत्सव (इफ्फी) में आज 24 नवंबर, 2021 को 'इन-कन्वर्सेशन सत्र' में हिस्सा ले रहे थे। इस सत्र में राज कपूर के बेटे और जाने माने अभिनेता-निर्देशक व निर्माता रणधीर कपूर भी उपस्थित थे।



इस अवसर पर इस किताब के पोस्टर का अनावरण राहुल रवैल और रणधीर कपूर ने संयुक्त रूप से किया।

रवैल ने बताया कि दिवंगत अभिनेता ऋषि कपूर को समर्पित ये जीवनी 14 दिसंबर 2021 को राज कपूर की 97वीं जयंती के अवसर पर रिलीज होगी।

रणधीर कपूर ने दर्शकों को बताया कि ये किताब कितनी खास है। उन्होंने कहा, "मेरे पिता एक मास्टर स्टोरीटेलर थे। हालांकि उनकी विरासत पर कई किताबें लिखी जा चुकी हैं, लेकिन राहुल रवैल जिन्होंने मेरे पिता के साथ एक समृद्ध इतिहास साझा किया है, उनकी ये किताब कुछ खास है। उन्होंने कहा कि ये किताब बहुत अच्छी बन पड़ी है।

रवैल के अनुसार, ये किताब पाठकों को उस्ताद फ़िल्म शिल्पकार राज कपूर की फिल्म निर्माण शैली का एक व्यापक विवरण प्रदान करती है। ये किताब न सिर्फ उनकी प्रतिभा को टटोलने की कोशिश करती है बल्कि राज कपूर के पहले कभी न देखे गए पहलुओं को भी सामने लाती है। उन्होंने कहा, "मैं आज जहां हूं, उन्हीं की वजह से हूं। मेरी किताब में उनके जीवन के बहुत सारे वृतांत और किस्से हैं जो उनके मज़ाकिया स्वभाव, अंदरूनी बातों, अपने फ़िल्म क्रू के साथ उनके रिश्तों, भोजन के लिए उनके जबरदस्त चाव और रूस के प्रति उनके प्यार को उद्घाटित करते हैं।"

इन महान फ़िल्मकार के साथ घनिष्ठ रिश्ता रखने वाले रवैल ने कहा कि वे इस किताब को उन लोगों को समर्पित करना चाहते हैं जिनमें फ़िल्ममेकिंग के ज्ञान को लेकर कभी न बुझने वाली प्यास है। उन्होंने कहा, "राज कपूर दुनिया के सबसे अच्छे शिक्षक थे। मैंने उनसे जो शानदार चीजें सीखी हैं, उन्हें मैं कभी नहीं भूल सकता। फ़िल्ममेकिंग की उनकी शैली को विस्तृत तौर पर बयां करने के लिए खास तौर पर 10 अध्याय समर्पित किए गए हैं।"

Next Story
Share it