कराची में फिर तोड़ा गया हिंदू मंदिर, मुस्लिम देशों में छाई चुप्पी

कराची में फिर तोड़ा गया हिंदू मंदिर, मुस्लिम देशों में छाई चुप्पी

भारत को धार्मिक सहिष्णुता पर ध्यान देने के लिए कहने वाले मुस्लिम देशों की चुप्पी कराची में मंदिर तोड़ने पर कुछ अलग ही इशारा कर रही है।

विश्व के मुसलमानों का सारा ज्ञान तभी सामने आता है जब इस्लाम से संबंधित कोई बात कहीं होती है बाकी की देवी देवता के साथ अगर अपमान होता है तो उस पर ना तो इस्लामिक विद्वान और ना ही इस्लामी देश कुछ कहते हैं।

भारत को धार्मिक सहिष्णुता के बारे में ज्ञान देने वाला पाकिस्तान अपने आप में एक कट्टर और आतंकवादी देश की श्रेणी में आता है जहां पर स्वतंत्रता के समय 13% हिंदुओं की आबादी थी जिसे आज कम से कम 30% होना चाहिए पर वह आबादी 1% से भी कम हो गई है


वहीं भारत में मुस्लिम आबादी स्वतंत्रता के समय 9:30 प्रतिशत के करीब थी और आज बढ़कर 14% से ऊपर है जो यह दर्शाता है कि भारत में मुसलमानों की संख्या में अच्छा खासा विस्तार हुआ है।

पर भारत में एक राजनेता के बयान को लेकर विश्व के देश लगातार भारत के खिलाफ बातें कर रहे हैं और पाकिस्तान में हिंदू देवी देवता क अपमान पर उनके देश से कोई स्टेटमेंट नहीं आ रहा है।

भारत सरकार को पाकिस्तान और अन्य मुस्लिम देशों के राजनयिक को बुलाकर हिंदू देवी देवता के अपमान के मुद्दे उठाने चाहिए और उनको उसी भाषा में जवाब देना चाहिए जिस भाषा में वह इस समय बात कर रहे हैं।


Next Story
Share it