नये साल में बाबा मंदिर में दर्शन को उमड़ा जन सैलाब

नये साल में बाबा मंदिर में दर्शन को उमड़ा जन सैलाब

देवघर, 01 जनवरी (हि.स.) । नव वर्ष के पहले दिन बाबा मंदिर में बाबा के दर्शन के लिए भक्तों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। सुबह तीन बजे गाजी बाबा मंदिर का पट सरकारी पूजा के लिए खोला गया। उसके बाद सरदार पंडा गुलाब नंद ओझा द्वारा पारंपरिक पूजा-अर्चना की गई जो 3:45 बजे तक चलता रही। इसके बाद जिला प्रशासन एवं मंदिर कर्मियों ने अरघा लगाया औरआम श्रद्धालुओं को चिल्ड्रन पार्क से होते हुए मानसरोवर हनुमान मंदिर के रास्ते से क्यू कंपलेक्स होते हुए फुट ओवरब्रिज के रास्ते से संस्कार भवन में प्रवेश कराकर बाबा की पूजा-अर्चना कराई गई।

इस दौरान बिहार, झारखंड, बंगाल के विभिन्न जगहों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु आये थे, जिन्होंने पूजा-अर्चना की। साल के पहले दिन बाबा बैद्यनाथ पर जलार्पण करने पहुंचे श्रद्धालुओं के साथ देवघर जिले के आसपास इलाके से भी काफी संख्या में श्रद्धालु बाबा मंदिर पहुंचे। गुरुवार रात से ही साल के पहले दिन पर बाबा का जलाभिषेक करने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ लगनी शुरू हो गई। रात 12 बजे से ही श्रद्धालु कतार लगाना शुरू हो गया था।

लॉकडाउन के पश्चात श्रद्धालुओं की इतनी भीड़ पहली बार देखने को मिली। इसके पूर्व पिछले साल महाशिवरात्रि के दिन ही श्रद्धालुओं की की भीड़ लगी थी। हालांकि इस बार ट्रेन का परिचालन नहीं होने के कारण अन्य वर्षो की तुलना में भीड़ थोड़ी कम रही। निजी वाहनों से ही श्रद्धालुओं के पहुंचने का सिलसिला जारी रहा। जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया श्रद्धालुओं की भीड़ बढ़ती गई। हर कोई बाबा बैद्यनाथ पर जलार्पण करने के बाद बाबा से यही कामना करते नजर आए कि इस वैश्विक महामारी से इस नए साल में बाबा छुटकारा दिला दे। पिछले साल की तरह यह दिन फिर जीवन में कभी देखने को नहीं मिले यही कामना हर कोई बाबा से करते नजर आ रहे थे। शुक्रवार साल के पहले दिन सुबह 3 बजे में बाबा मंदिर का पट खुला। सबसे पहले कांचाजल के बाद मंदिर में सरदार पंडा, गुलाब नंद ओझा ने बाबा बैद्यनाथ की प्रातः कालीन पूजा की इसके बाद आम भक्तों के लिए बाबा का पट खोला गया। साल के पहले दिन अहले सुबह संथाल परगना के पूर्व डीआईजी नरेंद्र कुमार सिंह, उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री , अपनी धर्म पत्नी के साथ बाबा मंदिर पहुंचे एवं बाबा बैद्यनाथ की पूजा कर लोगों के कल्याण की कामना की।

आम भक्तों के लिए बाबा का पट खुलते ही बाबा के जयकारे पूरा मंदिर परिसर गुंजायमान हो उठा। भक्तों की अप्रत्याशित भीड़ को देखकर स्थानीय लोग अचंभित में पड़ गए जिसका कारण था की पिछले 8 महीने से मंदिर बंद रहना, जिसके कारण श्रद्धालु आ नहीं पा रहे थे। नव वर्ष के पहले दिन एकाएक श्रद्धालुओं के भीड़ होने से बाबा नगरी में भी चहल-पहल बनी रही। सुबह 4 बजे से शाम 4 बजे तक बाबा मंदिर में अरघा के माध्यम से जलार्पण का सिलसिला चलता रहा। मंदिर बंद होने तक लगभग चालीस हजार श्रद्धालुओं ने बाबा का जलाभिषेक किया। बाबा का जलाभिषेक करने के बाद श्रद्धालु बाबा बैद्यनाथ एवं माता पार्वती का गठबंधन भी करते नजर आए।

नव वर्ष पर श्रद्धालुओं की भीड़ एवं भक्तों को सुगम जलार्पण को लेकर जिला प्रशासन के द्वारा पुख्ता तैयारी की गई थी। सभी भक्तों को जलसार पार्क से कतारबद्ध करते हुए नेहरू पार्क, क्यु कंपलेक्स, मानसरोवर फुटब्रिज से होकर संस्कार मंडप लाकर बाबा के गर्भ गृह में अरघा से जलार्पण कराया गया। सभी जगहों में पर्याप्त संख्या में दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी की तैनाती की गई थी। उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री, एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा सुबह 3 बजे से ही मंदिर में रहकर पूरे व्यवस्थाओं की मॉनिटरिंग करते रहे।

हिन्दुस्थान समाचार/चन्द्र विजय

Tags:    Deoghar Baba 
Next Story
Share it