शतरंज के महाकुंभ को लेकर 'उत्तर प्रदेश' खास गौरवांवित

शतरंज के महाकुंभ को लेकर उत्तर प्रदेश खास गौरवांवित


44वें 'शतरंज ओलंपियाड' में 190 देशों की भागेदारी - डा. संजय कपूर

कानपुर। अगले महीने की 28 तारीख से सौ साल के इतिहास में पहली बार भारत में होने वाले शतरंज ओलंपियाड के आयोजन को लेकर यू ंतो पूरे देश में खुशी व्याप्त है लेकिन 'कानपुर' विशेष रुप से गौरवंावित महसूस कर रहा है। इसका कारण यह है कि शतरंज के इस महाकुंभ का आयोजन करने वाले भारतीय शतरंज महांसंघ के अध्यक्ष डा. संजय कपूर अपने कानपुर के ही हैं। 44वें शतरंज ओलंपियाड के आयोजन को लेकर चेस फेडरेशन ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट डा. संजय कपूर ने बताया कि भारत में पहली बार आयोजित हो रहे शतरंज ओलंपियाड में 190 देशों के खिलाड़ी भागेदारी करेंगे।

भारतीय शतरंज महासंघ के अध्यक्ष डा. संजय कपूर ने कहा कि यह पहला मौका है जब भारत को सौ साल के इतिहास में पहली बार शतरंज ओलंपियाड की मेजबानी करने का शुभ अवसर मिला है। यह हर हिंदुस्तानी के लिये गर्व की बात है। इसके लिये सभी को जी-जान और मेहनत से जुटना चाहिये ताकि यह इवेंट भारत के लिये एक मील का पत्थर साबित हो। उन्होंने बताया कि तमिलनाडु में महाबलिपुरम में 28 जुलाई से चेस ओलंपियाड का आयोजन किया जायेगा, जिसमे 190 देशों के खिलाड़ी अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने के आ रहे हैं।

डा. कपूर ने बताया कि शतरंज ओलंपियाड के लिये इन दिनों तैयारियां जोरदारी के साथ चल रहीं हैं और समय रहते सभी तैयारियोें को पूरा कर लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस आयोजन के लिये लगभग 3500 कमरों की व्यवस्था की गई है, जहां प्लेयर और ऑफिशियल ठहरेंगे। चेस ओलंपियाड की यह मिनिमम डिमांड है। उन्हांेनंे बताया कि यह मेगा इवेंट भारतीय शतरंज महासंघ और तमिलनाडु सरकार के संयुक्त तत्वावधान में होगा। इस आयोजन में सौ से डेढ़ सौ करोड़ रुपये व्यय होने का अनुमान है।

यहां बता दें कि महानगर की खास शश्ख्यितों में से एक डा. संजय कपूर 58 साल के इतिहास में उत्तर प्रदेश से चेस फेडरेशन ऑफ इंडिया के पहले अध्यक्ष हैं। ऐसे में इस इंटरनेशनल इवेंट का आयोजन उत्तर प्रदेश और खासतौर से कानपुर के लिये गर्व और बेहद खुशी की बात है। शतरंज ओलंपियाड में उत्तर प्रदेश और कानपुर के ऑफिशियल्स और सीनियर प्लेयर्स की भी भागेदारी रहेगी। उन्होंनें बताया कि शतरंज ओलंपियाड की मशाल 26 जून को कानपुर आ रही है। इसे पांच बार के विजेता रहे खिलाड़ी विश्वनाथ आनंद लेकर आयेंगे।

डा. कपूर ने बताया कि शतरंज ओलंपियाड की मशाल 40 दिनों में 75 शहरों का भ्रमण करेगी। कानपुर मंे शतरंज ओलंपियाड की मशाल का भव्य स्वागत होगा। शतरंज ओलंपियाड मशाल के स्वागत के लिये जोरदार तैयारी की गई है। आगरा होते हुये कानपुर पहंुचने पर मशाल का स्वागत विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना करेंगे।

Next Story
Share it