जानिए इंजीनियर्स डे पर महान इंजीनियर डॉ विश्वेश्वरैया के बारे में

जानिए इंजीनियर्स डे पर महान इंजीनियर डॉ विश्वेश्वरैया के बारे में

देश के विकास में इंजीनियर्स का अहम योगदान है। आपदा से लेकर निर्माण तक इंजीनियर्स के बिना कुछ भी नहीं हो सकता। आज 15 सितंबर को इंजीनियर्स डे हैं। इसे अभियंता दिवस भी कहा जाता है। भारत रत्न सर डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया के जन्मदिवस के रूप में इसे भारत में मनाया जाता है। मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जन्म मैसूर में 15 सितम्बर 1861 को हुआ था। विश्वेश्वरैया भारतीय सिविल इंजीनियर, विद्वान और राजनेता थे।

उन्होने 1883 में पूना के साइंस कॉलेज से इंजीनियरिंग में स्नातक किया। स्नातक करने के बाद विश्वेश्वरैया को तत्काल ही सहायक इंजीनियर पद पर सरकारी नौकरी मिल गई थी। वे मैसूर के 19वें दीवान थे और 1912 से 1918 तक रहे। मैसूर में किए गए उनके कामों के कारण उन्हें मॉर्डन मैसूर का पिता कहा जाता है।

इस मौके पर इंजीनियरिंग कॉलेजों में स्टूडेंट्स को उनके अचीवमेंट्स पर अवॉर्ड दिए जाते हैं। 1955 में विश्वेश्वरैया जी को भारत का सबसे बड़ा सम्मान 'भारत रत्न' से सम्मानित किया गया था।

Next Story
Share it