सत्ताधारी शिवसेना ने की ममता बनर्जी के पेगासस मामले की कार्यवाही की जमकर तारीफ। केंद्र सरकार पर साधा निशाना।

सत्ताधारी शिवसेना ने की ममता बनर्जी के पेगासस मामले की कार्यवाही की जमकर तारीफ। केंद्र सरकार पर साधा निशाना।


महाराष्ट्र की सत्ताधारी सरकार महा विकास आघाडी कि सहयोगी शिवसेना ने पिछले गुरुवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात करने के बाद उनकी सराहना की। गौरतलब है कि ममता बनर्जी ने भारत समेत अन्य देशों को हिला देने वाले पेगासस स्नूप गेट की जांच के लिए एक आयोग का गठन किया है।जिसको देखते हुए अब हर तरफ ममता बनर्जी के काम की जबरदस्त चर्चा हो रही है।

आपको बता दें कि स्पाईगेट घोटाले की जांच के लिए जेपीसी की विपक्ष की मांग पर ध्यान नहीं देने पर केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की आलोचना करते हुए शिवसेना ने ममता बनर्जी के इस कदम को बेहद सही बताया।

इस दौरान शिवसेना ने अपने अखबार मुख्य पत्र सामना में लिखा कि मंत्रियों, विपक्ष, न्यायपालिका, पत्रकारों, वकीलों और अन्य नागरिकों के निजी जीवन पर नजर रखना एक बेशर्म कदम है.'' वहीं, संपादकीय में यह भी कहा गया है, पूरा मामला देश की राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित है, क्योंकि केवल कुछ मुट्ठी भर संगठन जैसे आईबी, रॉ, सीबीआई, ईडी, एनसीबी, सीबीसीडी, आदि। अब, अगर पेगासस जैसी इजरायली एजेंसी इस परिदृश्य में प्रवेश करती है, तो यह कमजोर हो सकती है। देश की सुरक्षा, लेकिन ऐसा लगता है कि केंद्र इसे राष्ट्रीय आश्रय दे रहा है। देश सच्चाई जानने का हकदार है।

शिवसेना के मुखपत्र सामना में उन्होंने आगे लिखा कि उम्मीद थी कि केंद्र सख्त कार्रवाई करेगा और एक जांच आयोग का गठन करेगा, लेकिन कुछ भी नहीं किया गया है। संयोग से, अभी दो दिन पहले, महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले पार्टी के सांसद सुरेश बालूभाऊ धनोरकर ने दृढ़ता से कहा था। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने स्पाइवेयर घोटाले की जांच के लिए सेवानिवृत्त न्यायाधीशों का एक आयोग गठित करने की मांग की।

संपादकीय में लिखते हुए यह भी बताया गया कि फ्रांस जैसे अन्य देशों ने भी पेगासस घोटाले की जांच की घोषणा की है, लेकिन फिर भी भारत सरकार ऐसा करती है मामले को गम्भीर न समझें- यह थोड़ा रहस्यमयी लगता है।।

नेहा शाह

Next Story
Share it