ED ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को फिर भेजा समन, पांच जुलाई को पेश होने का आदेश

ED ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को फिर भेजा समन, पांच जुलाई को पेश होने का आदेश

पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख को ईडी ने तीसरा समन भेजा है. 5 जुलाई को उन्हें जांच के लिए हाजिर होने का आदेश दिया गया है. मंगलवार को उन्हें ईडी ने समन देकर सुबह जांच के लिए बुलाया था. अनिल देशमुख ने अपनी उम्र, स्वास्थ्य और कोरोना का हवाला दिया था और वे हाजिर नहीं हुए थे. उन्होंने अपने वकील से कहलवा भेजा था कि ईडी उन्हें बताए कि उसे क्या डॉक्यूमेंट्स चाहिए. अनिल देशमुख ने 8 दिनों की मोहलत भी मांगी थी. ये समन कथित तौर पर 100 करोड़ रुपये के रिश्वत-कम-जबरन वसूली रैकेट से संबंधित धन शोधन रोकथाम अधिनियम के तहत दर्ज आपराधिक मामले के संबंध में हैं, जिसके कारण इस साल अप्रैल में देशमुख का इस्तीफा हुआ था.

पहले देशमुख ने 29 जून को भी प्रवर्तन निदेशालय के सामने हाजिर होने में असमर्थता जताई थी. तब उन्होंने इस कहा था कि उनकी उम्र 72 साल है और वह कई बीमारियों से ग्रसित हैं. उन्होंने कहा था कि अगर ED चाहे तो ऑडियो या वीडियो के माध्यम से बयान दर्ज कर सकती है. इस बीच देशमुख के निजी सचिव संजीव पलांडे और पीए कुंदन शिंदे की ED कस्टडी 5 दिन बढ़ा दी गई है. खास बात है कि ED ने दोनों की हिरासत बढ़ाए जाने की मांग करते हुए अदालत को बताया था कि संजीव पलांडे ने खुलासा किया है कि कुछ आईपीएस अफसरों के तबादले में अनिल देशमुख की भूमिका रही है. इस संबंध में जिनके नाम आए हैं, उन अफसरों को भी बयान के लिए बुलाकर आमना-सामना करवाना.

अराधना मौर्या

Next Story
Share it