विलुप्त हो रही प्रजाती
हर साल 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस मनाया जाता है। पहला World Sparrow Day 20 मार्च, 2010 को विश्व भर में मनाया गया। गौरैया उन कुछ विशेष पक्षियों में से है जिन्हें इंसानों के साथ रहना पसंद है। यह प्यारी सी, छोटी सी पक्षी इंसानों के आसपास या उनके घरों में ही घोंसला बनाकर रहती है।
गौरैया का वैज्ञानिक नाम
गौरैया का वैज्ञानिक नाम पासर डोमेस्टिकस है। यह पासेराडेई परिवार का हिस्सा है। विश्व के विभिन्न देशों में यह पाई जाती है।
विश्व गौरैया दिवस 2021 का विषय
विश्व गौरैया दिवस 2021 का विषय 'आई लव स्पैरो' रखा गया है जिसका अर्थ है कि मुझे गौरैया से प्रेम है। पिछले कई सालों से इस एक ही विषय पर इस दिन को मनाया जा रहा है। इस थीम को रखने के पीछे इंसान और पक्षी के बीच के संबंध की सराहना करना है।