मदर्स डे हर साल मई के दूसरे रविवार को मनाया जाता है
मां के लिए समर्पित अंतरराष्ट्रीय मातृ दिवस (International Mother’s Day) हर साल मई के दूसरे रविवार को मनाया जाता है. मां हर बच्चे के लिए बहुत स्पेशल होती है. कोई भी दुख हों या परेशानी हों, हर किसी का पहला शब्द मां होता है.
सभी देशों में अलग - अलग दिन मनाया जाता है मदर्ड डे
अनेक देशों में मदर्स डे मदर्स डे के लिए अलग-अलग तारीख तय है। भारत और अमेरिका समेत कई देशों में मदर्स डे मई महीने के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। वहीं, यूके में मई माह के चौथे रविवार को मदर्स डे मनाा जाता है जबकि ग्रीस में 2 फरवरी को मदर्स डे सेलिब्रेट किया जाता है।
मदर्स डे को लेकर कई किस्से हैं प्रचलित
माना जाता है कि एना जार्विस नामक एक अमेरिकी महिला ने मदर्स डे मनाने की शुरुआत की थी। कहा जाता है कि एना अपनी मां से बहुत प्यार करती थी और उनसे बहुत प्रेरित थी। ऐना अविवाहित थीं और अपनी मां के निधन के बाद उनके प्रति सम्मान दिखाने के लिए इस खास दिन की शुरुआत की।
मई के दूसरे रविवार को मनाने का कारण
साल 1914 में अमेरिकी राष्ट्रपति ने एक कानून पास किया था जिसके मुताबिक मई के महीने की दूसरी रविवार को मातृ दिवस मनाया जाएगा।तब से भारत समेत दुनिया के कई देशों में इसे मनाया जाने लगा।
मदर्स डे' के दिन हर बच्चा अपनी मां को करता है खुश
मदर्स डे के दिन हर बच्चा अपनी मां को खुश करने और अपनी जिंदगी में उनकी अहमियत को दिखाने के नए-नए रास्ते अपनाते हैं।