अच्छी खबर - लखनऊ में उम्मीद संस्था के काम से लोगो में जगी उम्मीद , बुढ़ापे को मिला सहारा

अच्छी खबर - लखनऊ में उम्मीद संस्था के काम से लोगो में जगी उम्मीद , बुढ़ापे को मिला सहारा



उम्मीद संस्था के रैन बसेरे में ऐसे बहुत से बुजुर्ग आज सुकून से रह रहे है जिनको उनके अपनो ने सड़को पर छोड़ दिया। किसी को तो उनके बच्चो ने निकाल दिया और कुछ को तो संपत्ति का मोह इतना हो गया की अपने माँ बाप को सड़कों पर छोड़ दिया। लोग यह भूल जाते है कि जिन माँ बाप ने पूरे जीवन भर काटो का ताज अपने सर पर रखकर फूलो की तरह उन्हें पाला है वह कितनी आसानी से अपने माता पिता को सड़क पर छोड़ देते है। वह यह भूल जाते है कि ढलती उम्र में सड़क पर सोना, खाने के लिए कुछ न मिलना और बदन पर फटे कपड़े उनको कितनी तकलीफ देती होगी।

उम्मीद संस्था लखनऊ शहर में नगर निगम के सात रैन बसेरे जनता के सहयोग से संचालित कर रही है। इन सभी रैन बसेरों में बेघर और जरूरतमंद लोग निशुल्क रह रहे है। संस्था द्वारा इनके लिए रोज लंगर सेवा का आयोजन किया जाता है और हर प्रकार की निशुल्क सुविधाएं दी जाती है। संस्था द्वारा निस्वार्थ भाव से इनकी सेवा की जाती है और बहुत अच्छा लगता है जब इनके चेहरों पर सुकून नज़र आता है। आइये इन बेघर लोगो की मद्दत करे और उनको दो पल खुशी के प्रदान करे।


Next Story
Share it