प्रदूषण बढ़ाने वाले चार बिल्डरों को कड़ी नोटिस जारी ,लखनऊ में फिर से बढ़ा प्रदूषण ,

प्रदूषण बढ़ाने वाले चार  बिल्डरों को कड़ी नोटिस जारी ,लखनऊ में फिर से बढ़ा प्रदूषण ,


पाँच वर्ष से प्रदूषण बढ़ते जा रहां हैं। लखनऊ में फिर प्रदूषण के कारण लोगो को परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं। प्रदूषण बढ़ने के बावजूद बिल्डरो पर कोई असर नही पड़ रहा हैं। ज्यादातर बिल्डरो के कारण प्रदूषण देखने को मिल रहा हैं। बोर्ड ने नोटिस जारी करने के लिए चार बिल्डरो को LDA को पत्र लिखा हैं। बोर्ड ने अपने पत्र में कहा है कि ऐसे बिल्डरों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए।

अंबे इंफ्रा हाईटेक पर 7,812 रुपये प्रतिदिन की दर से जुर्माना भी लगाया गया है। 23,437 रुपए क्षतिपूर्ति जमा करने के लिए जारी कारण बताओ नोटिस का जवाब न देने पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने रिशिता डेवलपर व उसके निदेशक के खिलाफ किया गया।

कोर्ट के मामले में संस्था ने नही लिया नोटिस को गंभीरता!

डेवलपर की सुल्तानपुर रोड स्थित सरसांवा गांव में साइट चल रही है। यहां अपार्टमेंट बनाया जा रहा है। बिल्डिंग निर्माण में प्रदूषण रोकने की कोई व्यवस्था नहीं है। बोर्ड ने तीन बार नोटिस जारी कर व्यवस्था दुरुस्त करने की चेतावनी दी थी। बीते 11 नवम्बर को बोर्ड के अभियंताओं ने निरीक्षण किया तो कोई उपाय नहीं किए गए थे। इसपर 13 नवम्बर को कारण बताओ नोटिस जारी की गई। उसमें 22 अक्तूबर से व्यवस्था दुरुस्त करने तक 23 हजार‚ 437 रुपए प्रतिदिन की दर से क्षतिपूर्ति लगाने की चेतावनी दी गई थी। संस्था ने इस नोटिस को भी गंभीरता से नहीं लिया।

LDA को लिखा गया पत्र

उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने मैसर्स एक्सपीरियन डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड विभूति खंड गोमती नगर‚ मैसर्स ओमेक्स इंटीग्रेटेड टाउनशिप‚ मैसर्स हलवासिया डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड‚ मैसर्स रिसिता मैनहैटन‚ सरसांवा सुल्तानपुर रोड तथा अंबे इंफ्रा हाईटेक प्राइवेट लिमिटेड विभूति खंड गोमती नगर को नोटिस जारी किया है। प्रदूषण बोर्ड से मिले पत्र के बाद LDA के अधिकारियों का कहना है कि बिल्डरों को प्राधिकरण की तरफ से भी नोटिस दी जाएगी न मानने पर उनका नक्शा निरस्त किया जाएगा।

ज्योति जयसवाल।

Next Story
Share it