आरटी पीसीआर रिपोर्ट में नेगेटिव आने के बाद यदि सिटी स्कैन में मिलता है वायरस तो क्या करें.

आरटी पीसीआर रिपोर्ट में नेगेटिव आने के बाद यदि सिटी स्कैन में मिलता है वायरस तो क्या करें.

....

भारत में बिगड़ते हालातों के बीच में अब कोविड-19 के मरीजों की रिपोर्ट भी गड़बड़ आने लगी है। आरटी पीसीआर की रिपोर्ट में नेगेटिव आने के बाद सिटी स्कैन में कोविड-19 की पुष्टि होने वाले प्रिजम्पटिव कोरोना मरीजों के इलाज के लिए अब सरकार की ओर से निर्देश जारी कर दिया गया है। सरकार के द्वारा जारी किए गए निर्देश के मुताबिक अब ऐसे मरीजों को अस्पताल के अलग वार्ड में रखा जाएगा।

आपको बता दें कि rt-pcr रिपोर्ट की जांच के बाद भी अब तक करीब 25 से 30 फ़ीसदी रोगी ऐसे सामने आ चुके हैं। जिनकी rt-pcr जांच तो नेगेटिव रहती है लेकिन सिटी स्कैन में कोरोना से संक्रमित पाए जाते हैं।

आपको बता दें कि डॉक्टरों के मुताबिक ऐसे मरीजों में भी संक्रमित मरीजों की तरह ऑक्सीजन स्तर खतरनाक स्तर पर गिरने लगता है। मगर इन्हें ना तो कोविड-19 अस्पताल में भर्ती किया जाता है, और ना ही किसी अन्य अस्पताल में इलाज।

अब गाइडलाइंस के अनुसार केजीएमयू के पलमोनरी एवं क्रिटिकल केयर मेडिसिन के अध्यक्ष डॉ वेद प्रकाश का कहना है कि ऐसे मरीजों में यदि सिटी स्कैन 5 से ज्यादा है, और कोविड-19 की पुष्टि हो गई है, तो तत्कालीन ऐसे मरीजों को भी कोविड के मरीजों की तरह इन्हें भी स्टेरॉयड व खून पतला करने के लिए दवा दी जाएगी।

जिससे कि इन की जान बचाई जा सकती है। आपको बता दें कि ऐसी 40 फ़ीसदी मरीज आने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी खबरों का संज्ञान लिया और आरटीपीसीआर निगेटिव कोविड लक्षणों वाले मरीजों को प्रिजम्पटिव कोविड मानकर उन्हें अलग वार्ड में भर्ती कर इलाज करने का निर्देश जारी कर दिया है। इससे सैकड़ों मरीजों की जान बचाना आसान हो जाएगा।

नेहा शाह

Next Story
Share it