झारखंड के धनबाद में शिक्षक संघ ने कोविड कि ड्यूटी से जताया विरोध कहा- ड्यूटी करानी ही है तो कोरोना योद्धा का दर्जा दें.....

झारखंड के धनबाद में शिक्षक संघ ने कोविड कि ड्यूटी से जताया विरोध कहा- ड्यूटी करानी ही है तो कोरोना योद्धा का दर्जा दें.....

हाल ही में देश में कोविड-19 मे ड्यूटी करने की वजह से कई शिक्षकों की मृत्यु की खबर आई थी। इस पर झारखंड के धनबाद जिले में निरसा के प्रचंड विकास अधिकारी ने एक आदेश से सरकारी प्राथमिक शिक्षक के नाराज होने की खबर बताएं। उन्होंने बताया कि शिक्षक इसलिए नाराज हैं क्योंकि वीडियो में कोरोना संक्रमण के इस दौर में शिक्षकों की बिना किसी सुरक्षा के दाह संस्कार घाटों और कब्रिस्तान पर ड्यूटी लगा दी है और उनसे यह सुनिश्चित करने को कहा है कि कोरोना से मरने वाले किसी भी व्यक्ति का शव अंतिम संस्कार स्थल आने पर उसका अंतिम संस्कार सरकारी व्यय पर किया जाये.

बता दें कि निरसा के वीडियो विकास राय ने इस आदेश के बाद धनबाद के सरकारी विद्यालयों के प्राथमिक शिक्षकों में नाराजगी है और उन्होंने इस आदेश को यह कहकर विरोध किया कि शिक्षा के अधिकार अधिनियम एवं इस संबन्ध में उच्चतम न्यायालय के आदेश के तहत प्राथमिक शिक्षकों से शिक्षा के अतिरिक्त कोई अन्य कार्य नहीं लिया जा सकता है। इतना ही नहीं आपको बता दें कि उन्होंने आरोप लगाया कि इस तरह की ड्यूटी पर भेजने से उनका शिक्षण कार्य बुरी तरह प्रभावित हो रहा है क्योंकि विद्यालयों में ऑनलाइन शिक्षण का कार्य जारी है।

इसके अलावा उन्होंने सरकार से मांग की कि यदि सरकार को उनसे इस तरह की कोरोना ड्यूटी करानी ही है तो कम से कम उन्हें कोरोना योद्धा का दर्जा देकर उन्हें पचास लाख रुपये के बीमा की सुरक्षा तो दी जाये। गौरतलब है कि लगातार शिक्षक कोविड-19 की ड्यूटी करते जा रहे हैं जिसकी वजह से हाल ही में प्रियंका गांधी द्वारा बताया गया कि 170 शिक्षकों की ड्यूटी की वजह से मृत्यु होने की खबर आई है। इस पर राज्य प्राथमिक अध्यापक संघ के ब्रजेन्द्र चौबे ने मांग की है कि राज्य सरकार या तो अध्यापकों को कोरोना ड्यूटी से हटाये या उन्हें अग्रिम पंक्ति के कोरोना योद्धा का दर्जा देकर चिकित्सकों की तरह सभी सुरक्षा एवं सुविधाएं उपलब्ध कराये।

नेहा शाह

Next Story
Share it