एनपीपीए के डिमांड नोटिस के जवाब में एस्ट्राजेनिका ने कोर्ट की शरण ली

एनपीपीए के डिमांड नोटिस के जवाब में एस्ट्राजेनिका ने कोर्ट की शरण ली


एनपीपीए के डिमांड नोटिस के जवाब में एस्ट्राजेनिका ने कोर्ट की शरण ली| इस नोटिस में ये कहा गया है कि कंपनी ने १५७.३८ करोड़ रुपये ज्यादा लिए | ये रूपये मार्च ८, २०१९ से ३१ जनवरी 2021 तक ताग्रिस्सो टेबलेट के लिए लिया गया है |

कंपनी को २५ जून को एनपीपीए से ड्रग्स प्राइस कण्ट्रोल आर्डर २०१३ के तहत एक नोटिस मिली जिसमे कहा गया की ताग्रिस्सो टेबलेट जिसमे ओसिमेर्तिनिब ८० एमजी फार्मूलेशन है उसका दाम ज्यादा लिया गया है | इसके जवाब में कंपनी ने दिल्ली हाई कोर्ट में एक रिट पेटिसन डाल दिया है |

कंपनी से ३० दिन के अंदर इस पैसे को जमा करने के लिए कहा गया है |


हालाकि कम्पनी ने कहा कि उन्होंने अपना पक्ष रखने का प्रयास किया पर उसे नही सुना गया | ओसिमेर्तिनिब एक पेटेंट दवा है और ये डीपीसीओ २०१३ या फिर २७ फ़रवरी २०१९ के नोटिफिकेशन के अंतर्गत नही आती है |

कम्पनी ने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की और अपना विश्लेषण भी इस मसले पर रखने का प्रयास किया पर उसे पूरी तरह से अनसुना कर दिया गया , जबकि कम्पनी ये मानती है कि जो डिमांड है वो क़ानूनी रूप से टिक नही पायेगा |


इस विवाद का असर कम्पनी के शेयर पर भी पड़ा है और वो बीएसइ में ३६२१ .१० से ०.८० परसेंट गिर कर बंद हुआ |




Next Story
Share it