दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार इतनी डरावनी है कि हाई कोर्ट भी बार-बार चिंता जता चुका है। 1 महीने में ही 2300 से ज्यादा मौतें,

दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार इतनी डरावनी है कि हाई कोर्ट भी बार-बार चिंता जता चुका है। 1 महीने में ही 2300 से ज्यादा मौतें,


गुरुवार को भी कोर्ट ने चिंता जताई। दिल्ली में सिर्फ नवंबर महीने में कोरोना से मरने वालों की तादाद 2 हजार को पार कर गई। दिल्ली वालो, संभल जाइए। अपनी दिल्ली को संभाल लीजिए। अगर अब भी लापरवाही कर रहे हैं तो यह बहुत भारी पड़ सकती है। कोरोना महामारी जिस रफ्तार से दिल्ली को अपनी गिरफ्त में ले रही है, वह डराने वाली है। यह हम नहीं, बल्कि खुद सरकार के आंकड़े कह रहे हैं।

गुरुवार को 7,546 नए मामले

सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में गुरुवार को 7,546 मामले, शुक्रवार को 6,608 मामले, शनिवार को 5,879 मामले, रविवार को 6,746 मामले, सोमवार को 4,454 मामले, मंगलवार को 6,224 मामले और बुधवार को 5,246 मामले सामने आए।

दिल्ली में 1 महीने में 2300 से ज्यादा जिंदगियों को लील चुका है कोरोना

दिल्ली में 28 अक्टूबर से अब तक कोविड-19 से 2,364 मरीजों की मौत हुई और इस दौरान हर दिन सामने आने वाले संक्रमण के मामले पहली बार 5 हजार के आंकड़े को पार कर गए। आधिकारिक आंकड़ों में यह जानकारी सामने आई। बुधवार को कोविड-19 से 99 और मरीजों की मौत हो गई जिसके बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 8,720 पर पहुंच गई।

ठंड और प्रदूषण संक्रमण को बना रहे और घातक

आंकड़ों के अनुसार, बुधवार को दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़कर 5,45,787 हो गए जिनमें से 4,98,780 लोग ठीक हो चुके हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि अस्पताल पहुंचने में देर होना, आईसीयू बिस्तरों की कमी, खराब मौसम और प्रदूषण में वृद्धि से दिल्ली में कोविड-19 से होने वाली मौत की संख्या बढ़ रही है।

ऋषि जयसवाल।

Next Story
Share it