एंबुलेंस हड़ताल की साजिश करने वाले 11 कर्मचारियों पर लगा एस्मा एक्ट योगी सरकार ने दिए कड़े निर्देश।

एंबुलेंस हड़ताल की साजिश करने वाले 11 कर्मचारियों पर लगा एस्मा एक्ट योगी सरकार ने दिए कड़े निर्देश।

उत्तर प्रदेश में हो रही एंबुलेंस की हड़ताल के मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ ने सख्त एक्शन लेने का फैसला किया है। बता दें कि हड़ताल के लिए साजिश करने वाले 11 कर्मचारियों पर एस्मा एक्ट भी लगा दिया गया है।

बता दे कि लखनऊ के आशियाना थाने में जेवीके ने शिकायत दर्ज कराई है। वही एंबुलेंस के कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष हनुमान पांडे ने कहा है कि उन पर हड़ताल वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा है। साथ ही उन्होंने कंपनी पर फर्जी केस बनाने का भी आरोप लगाया है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में GVKEMRI सरकारी एंबुलेंस का संचालन करती है। जिसके बाद एंबुलेंस सेवा के लिए पिछले दिनों एक टेंडर भी निकाला गया था।

यह टेंडर किसी दूसरी कंपनी को दे दिया गया और शिकायत में यह भी कहा गया कि एलएस कर्मचारियों ने नई कंपनी की प्लानिंग मामलों को स्पष्ट करने की मांग की थी। जिसके बाद ही कर्मचारियों ने जाम और स्ट्राइक जैसी चीजें करना शुरू कर दी। जिसकी वजह से 2 मरीजों की मृत्यु भी दर्ज की गई।

आपको बता दें कि इन 11 कर्मचारियों एवं पदाधिकारियों को जिम्मेदार माना गया है। जिन्हें स्वयं कंपनी ने बर्खास्त कर दिया है। इन 11 कर्मचारियों में कर्मचारी संघ के अध्यक्ष हनुमान पांडे, सुशील पांडे, अभिषक मिश्रा, बृजेश मिश्रा, शरद यादव, सलिल अवस्थी, सुनील सचान, मधुर मिश्रा, राघवेंद्र तिवारी, रितेश शुक्ला और दिनेश कौशिश है. कोरोना प्रोटोकॉल के उल्लंघन मामले में सभी के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई है।

इतना ही नहीं आपको बता दें कि योगी सरकार ने हड़ताल के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों पर एस्मा लगा दिया है। इसके साथ ही सभी के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की गई है। एस्मा लगाने के बाद सरकारी सेवाओं में हड़ताल नहीं की जा सकती। अगर कोई भी नियम को तोड़ता है तो उसके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जा सकता है। हड़ताल से मरीजों को होने वाली परेशानी को देखते हुए सरकार ने ये अहम कदम उठाया है।

नेहा शाह

Next Story
Share it