ब्रिटेन में भारतीय मूल के हरीश शुक्ला ने मारी बाजी। सबसे पहले कोविड-19 के लिए टीका लगवाने की लिस्ट में शामिल।

ब्रिटेन में भारतीय मूल के हरीश शुक्ला ने मारी बाजी। सबसे पहले कोविड-19 के लिए टीका लगवाने की लिस्ट में शामिल।


वैश्विक महामारी कोरोनावायरस ने पूरे विश्व को परेशान कर दिया है। सभी देश अपने देश की जनता को बचाने के लिए वैक्सीन के निर्माण में लगे हुए हैं, और कुछ देशों ने निर्माण पर सफलता भी हासिल कर ली है, जिसमें ब्रिटेन समेत रूस भी शामिल है।

आपको बता दें कि ब्रिटेन में टीकाकरण की प्रक्रिया आज से शुरू कर दी गई है। उत्तर पूर्वी इंग्लैंड के भारतीय मूल के 87 वर्ष के हरीश शुक्ला दुनिया के उन कुछ पहले लोगों में शामिल होंगे। जिन्हें कोविड-19 का टीका लगेगा। टाइम एंड वेयर के निवासी हरीश शुक्ला कहते हैं कि अपने टीके की पहली दो खुराक लगवाना उनका कर्तव्य है। साथ ही ब्रिटेन के प्रधानमंत्री जॉनसन ने इस पल को एक बड़ी उपलब्धि बताया है।

हरि शुक्ला ने कहा कि "मैं बहुत खुश हूं, कि अंततः हम इस वैश्विक महामारी के अंत की ओर बढ़ रहे हैं। और मैं खुश हूं कि टीका लगवा कर मैं अपनी जिम्मेदारी पूरी करने जा रहा हूं। यह मेरा कर्तव्य है और मदद के लिए जो हो सकेगा मैं वो सब करूंगा।" "उन्होंने अपने शब्दों को आगे बढ़ाते हुए कहा कि मुझे पता है कि वैज्ञानिकों ने कितनी मेहनत की है और उनके लिए मैं सम्मान प्रकट करता हूं। बड़ा है और वैश्विक महामारी के दौरान हमें सुरक्षित रखने के लिए उन्होंने जो कुछ भी किया है मैं उसका आभारी हूं।"

आपको बता दें कि भारतीय मूल के निवासी शुक्ला को एन एच एस के द्वारा ब्रिटेन के टीका एवं टीकाकरण संबंधी समिति द्वारा निर्धारित मानदंड के आधार पर चुना गया था। वैज्ञानिकों द्वारा बताया जा रहा है कि वैश्विक महामारी कोविड-19 का खतरा वरिष्ठ नागरिक को जिनकी उम्र 80 साल से अधिक है उन पर ज्यादा देखा जा रहा है।जिसको देखते हुए हमने याद तय किया है कि सबसे पहले या टीका वरिष्ठ नागरिकों को लगाया जाएगा।

उसके बाद शिक्षकों , स्वास्थ्य कर्मियों, समाज सेवकों व सफाई कर्मचारियों को कोविड-19 का टीकाकरण किया जाएगा क्योंकि उक्त सभी लोगों ने निरंतर अपनी जान की बाजी लगाकर खतरा उठाया है। और हम नहीं चाहते कि हम इन लोगों को जरा भी क्षति पहुंचाए इसीलिए हमारा पहला प्रयास इन सभी लोगों को टीकाकरण करने का होगा।

नेहा शाह

Next Story
Share it