लखनऊ के इन प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना पीड़ित बच्चों का होगा सस्ता इलाज

लखनऊ के इन प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना पीड़ित बच्चों का होगा सस्ता इलाज

देशभर में कोरोना का कहर जारी है। ऐसे में , कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने तैयारी तेज कर दी है। अब सरकारी संग प्राइवेट अस्पतालों में भी कोरोना संक्रमित बच्चों को बेहतर इलाज मिलेगा। लखनऊ के 12 अस्पताल में 1025 बेड तैयार हो गए हैं। इसमें आठ अस्पताल प्राइवेट क्षेत्र के हैं। वहीं 25 प्राइवेट अस्पतालों से वार्ता चल रही है। इसमें बच्चों के लिए करीब 500 बेड और बढ़ने की उम्मीद है।

यूपी की विशेषज्ञों की कमेटी ने सितम्बर से अक्तूबर में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जताई है। विशेषज्ञों के मुताबिक इस बार बच्चों को वायरस से अधिक खतरा है। दो साल से कम उम्र के बच्चों में संक्रमण का खतरा काफी कम है। 25 प्राइवेट अस्पताल ने भी कोरोना संक्रमित बच्चों को भर्ती के लिए हामी भरी है। इनमें करीब 500 बेड होंगे। उन्होंने बताया कि प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना पीड़ित बच्चों का इलाज बेहद कम दर पर होगा।

लखनऊ में बच्चों के बेहतर इलाज के लिए पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट (पीकू) व नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (नीकू) बनाने के निर्देश दिए हैं। नीकू में दो साल से कम उम्र के बच्चों को भर्ती किया जाएगा। जबकि पीकू में दो से 18 साल तक के बच्चों को इलाज मिलेगा।

Next Story
Share it