Corona वैक्सीन लेकर भी मंत्री अनिल विज कैसे हो गए कोविड पॉजिटिव, शक के दायरे में आया Covaxin......

Corona वैक्सीन लेकर भी मंत्री अनिल विज कैसे हो गए कोविड पॉजिटिव, शक के दायरे में आया Covaxin......


हरियाणा के गृहमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री अनिल वीज कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं। उन्होंने खुद ट्वीट कर अपने संक्रमित होने की जानकारी दी है। उन्होंने सलाह दी है कि जो लोग भी उनके संपर्क में आए हैं वह सभी अपना कोरोना टेस्ट करवा लें। हैरानी की बात ये है कि उन्होंने कोवैक्सीन परीक्षण में वॉलंटियर के तौर पर खुद को टीका लगवाया था। अनील वीज के कार्यालय की तरफ से दी गई जानकारी के अनुसार, उन्हें 18 दिसंबर को वैक्सीन की दूसरी डोज दी जानी है। अनिल विज के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद यह वैक्सीन तैयार करने वाली कंपनी भारत बायोटेक ने इस पर सफाई दी है। भारत बायोटेक ने कहा है कि कोवैक्सिन के क्लीनिकल ट्रायल दो डोज पर आधारित हैं। इसमें 28 दिन का समय लगता है। भारत बायोटेक ने सफाई देते हुए कहा कि कोरोना वैक्सीन की प्रभावकारिता वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के 14 दिनों के बाद दिखता है। कंपनी ने कहा कि वैक्सीन तभी ज्यादा असरदार होगी जब किसी व्यक्ति ने टीके की दोनों डोज ली हो।

ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) के पूर्व निदेशक एमसी मिश्र का कहना है कि अनिल विज ने 20 नवंबर को वैक्सीन के ट्रायल के दौरान वैक्सीन ली थी और अब वह कोविड पॉजिटिव हैं। इसके पीछे दो वजह हो सकती हैं। पहली ये कि किसी भी वैक्सीन के ट्रायल के दौरान कुछ लोगों को प्लासीबो (दवा के भ्रम में कोई सामान्य् पदार्थ) दिया जाता है और कुछ को वैक्सीन की डोज दी जाती है। एमसी मिश्र कहते हैं कि ये हो सकता है कि अनिल विज को प्लासीबो दिया गया हो न कि वास्तविक वैक्सीन। ऐसे में उनका पॉजिटिव होना लाजमी है।

अराधना मौर्या

Next Story
Share it