100 भारतीय वालंटियर्स को लगाई जाएगी रूसी स्पुतनिक वी वैक्सीन, DCGI ने गुरुवार को दी जानकारी.....

100 भारतीय वालंटियर्स को लगाई जाएगी रूसी स्पुतनिक वी वैक्सीन, DCGI ने गुरुवार को दी जानकारी.....


कोरोना वायरस महामारी को दुनिया भर में लगभग एक साल पूरा हो गया है, लेकिन अभी तक इसका कारगर इलाज नहीं मिल पाया है। दुनियाभर में दर्जनों भर कोरोना वैक्सीन पर काम चल रहा है, लेकिन कारगर वैक्सीन लोगों तक कब तक पहुंच पाएगी कहना मुश्किल है। वहीं भारत ने रूसी स्पुतनिक वी वैक्सीन का परीक्षण करने की अनुमति दे दी थी। अब कोरोना के खिलाफ रूसी स्पुतनिक वी वैक्सीन का परीक्षण भारत में 100 स्वयंसेवकों पर किया जाएगा। भारतीय औषधि महा नियंत्रक (डीजीसीआई) ने यह जानकारी दी।

स्पुतनिक ने कहा कि टीका चरण 3 में जाने से पहले अपने नैदानिक परीक्षणों के दूसरे चरण में परीक्षण किया जाएगा। भारतीय केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन के ड्रग कंट्रोलर जनरल (DCGI) डॉ. रेड्डीज लेबोरेटरीज को रूसी स्पुतनिक वी वैक्सीन के फेज-2 के क्लिनिकल ट्रायल (clinical trials) की अनुमति दी है। एक सरकारी अधिकारी के अनुसार, डॉ. रेड्डीज लैब ने कहा है कि वैक्सीन के फेज-2 के क्लिनिकल ट्रायल 100 लोगों पर किए जाएंगे और वहीं फेज-3 के क्लिनिकल ट्रायल में 1400 लोगों को शामिल किया जाएगा। पिछले महीने, आरडीआईएफ के सीईओ, किरिल दिमित्री ने बताया कि रूस भारत में भारत सरकार और दवा निर्माताओं के साथ भारत में अपने स्पुतनिक वी वैक्सीन के उत्पादन के स्थानीयकरण के बारे में बातचीत कर रहा है।

अराधना मौर्या

Next Story
Share it