गलत खान-पान से बीमारों को कोविड ने किया प्रभावित

गलत खान-पान से बीमारों को कोविड ने किया प्रभावित


प्रयागराज, 07 जनवरी (हि.स.)। आज की सबसे बड़ी समस्या है जीवनशैली के रोग। कोविड-19 के उदय के साथ वैश्विक स्तर पर सभी का ध्यान शरीर की इम्यूनिटी के तरफ आकर्षित हुआ है। जैसा सामने आया कि कोविड वायरस ने उन्हीं लोगों को सबसे अधिक प्रभावित किया जिनमें डायबीटीज या अन्य दूसरी मेटाबालिक बीमारियाँ थीं। ये सिलसिला लगातार चल रहा है। डायबीटीज और सभी मेटाबालिक बीमारियों के पीछे सीधे तौर पर हमारा गलत खान-पान और गलत जीवनशैली जिम्मेदार है।

यह बातें प्रमुख सचिव भाषा उ.प्र शासन लखनऊ जितेन्द्र कुमार ने हिन्दुस्तानी एकेडेमी के तत्वावधान में गुरुवार की सायं मधुमेह पर केन्द्रित 'मेटाबॉलिक डिजीज एंड डायबिटीज रिवर्सल विदआउट मेडिसिन' विषयक संगोष्ठी में सम्बोधित करते हुए कही। उन्होंने आगे कहा कि लेकिन इन सभी का इलाज मरीज सिर्फ एलोपैथिक दवाओं से करते हैं। जब कि इन सभी बीमारियों को खान-पान और जीवनशैली में परिवर्तन लाकर किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि हमारे खान-पान, खराब जीवन शैली, अत्यधिक मानसिक तनाव और प्रदूषण से शरीर की कोशिकाओं में टॉक्सिन इकट्ठे हो जाते हैं, लीवर ठीक से काम नहीं करता है, ऐसिड और ऐल्कलायन असंतुलन होता है, साथ में शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। इससे शरीर में मेटबालिक असंतुलन होने से डाइबीटीज और दूसरी मेटाबालिक बीमारियाँ हो जाती हैं।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए एकेडेमी के अध्यक्ष डॉ.उदय प्रताप सिंह ने कहा कि आज हिन्दुस्तानी एकेडेमी ने अपने ढंग की अनूठी संगोष्ठी का आयोजन किया है। मधुमेह से आज अनेकों लोग पीड़ित हैं। एक सुव्यवस्थित कार्यशैली को अपनाकर मधुमेह से छुटकारा पाया जा सकता है। इसके पूर्व एकेडेमी अध्यक्ष डॉ. उदय प्रताप सिंह ने न्यायमूर्ति विवेक कुमार सिंह, न्यायमूर्ति मंजूरानी चौहान,एवं डॉ.पंकज भारती होलेस्टिक फिजीशियन, लखनऊ का स्वागत किया। धन्यवाद ज्ञापन एकेडेमी कोषाध्यक्ष पायल सिंह एवं संचालन डॉ. संजय कुमार सिंह ने किया। कार्यक्रम में रामनरेश तिवारी पीण्डीवासा, डॉ.रमेश सिंह, प्रो.योगेन्द्र प्रताप सिंह, कल्पराज सिंह सदस्य लोक सेवा आयोग, डॉ.सरोज सिंह, शैलेन्द्र श्रीवास्तव सहित कई लोग उपस्थित रहे।

हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त/संजय

Next Story
Share it